डॉक्टर ऑपरेशन के वक्त हरे या नीले रंग के कपड़े ही क्यों पहनते है, जानिए

डॉक्टर ऑपरेशन के वक्त हरे या नीले रंग के कपड़े ही क्यों पहनते है, जानिए

अक्सर आपने अस्पताल में देखा होगा डॉक्टर सफ़ेद कोट में नजर आते है। डॉक्टर का सफ़ेद कोट उसे सभी से अलग दिखाता हैं। इसी के साथ ही आपने यह भी देखा होगा कि ऑपरेशन के समय हरे या नीले रंग का कपड़ा पहनकर ही डॉक्टर अपना काम करते हैं। लेकिन क्या आप इसके पीछे की वजह जानते हैं कि आखिर क्यों ऑपरेशन के समय डॉक्टर हरे या नीले रंग के कपड़े पहनते है।

हरे या नीले रंग के कपड़े ही क्यों पहनते है:

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, सर्जरी के समय डॉक्टरों ने हरे रंग का कपड़े पहनने इसलिए शुरू किए, क्योंकि ये आंखों को आराम देते हैं। हमारी आंखें सूरज या फिर किसी भी दूसरी चमकदार चीज को देख कर चौंधिया जाती हैं, लेकिन इसके तुरंत बाद अगर हम हरे रंग को देखते हैं, तो हमारी आंखों को सुकून मिलता है।


अगर वैज्ञानिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो हमारी आंखों का जैविक निर्माण कुछ इस प्रकार से हुआ है कि ये मूलतः लाल, हरा और नीला रंग देखने में सक्षम हैं। 


यहां है ये अनोखी प्रथा, मर्दो से मार खाकर महिलाओं का हो जाता हैं बुरा हाल

यहां है ये अनोखी प्रथा, मर्दो से मार खाकर महिलाओं का हो जाता हैं बुरा हाल

इस दुनिया में आज भी बहुत सी अजीबोगरीब परंपरा चलती आ रही है। आज हम आपको एक ऐसी ही परंपरा के बारे में बताने जा रहे हैं जो आदिवासियों और पिछड़ी जातियों में आज भी निभाई जाती हैं। ये हैं इथोपिया की ऐसी जनजाति जहन महिलाएं अपने पति से पिटने में गर्व महसूस करती हैं। और इन्ही की कुछ तस्वीरें कैमरे में कैद की एक फ्रेंच फोटोग्राफर ‘एरिक लैफोर्ग’ ने।

मार खाती है महिलाएं:

ये जनजाति है हैमर नाम की जाति। इनकी मानें तो ये कहते हैं कि ये जाति बहुत ही अलग है। इनके बारे में बता दे कि इस जाति के लोग कैटल जंपिंग सेरेमनी मनाते हैं ये उनका एक खास तरह का समारोह होता है। इस में 15 गायों को एक साथ खड़ा कर दिया जाता है और एक युवक उसे कूदते हुए पार करना होता है अगर कोई लड़का ऐसा नही कर पाया तो उसकी शादी नहीं की जाती है।

महिलाएं मिलकर उसे पीटती भी हैं। इसके बाद उस लड़के के घर की सभी औरतों को पीटा जाता है। महिलाओं को मारने के लिए पुरुषों का एक संगठन होता है जिसे ‘माजा’ कहते हैं। और इसे महिलाएं बहुत ही मज़े के साथ करती हैं।