अपनी चलने-फिरने से लाचार पत्‍नी को कर दिया जिंदा ही दफन, जानिए क्यों

 अपनी चलने-फिरने से लाचार पत्‍नी को कर दिया जिंदा ही दफन, जानिए क्यों

पत्‍नी की बीमारी व गरीबी से तंग आकर एक 46 वर्षीय शख्‍स ने अपनी चलने-फिरने से लाचार पत्‍नी को जिंदा ही दफन कर दिया। अब पुलिस ने आरोपी को अरैस्ट कर लिया है। साथ ही मुद्दे की तफ्तीश जारी है। बताया जा रहा है ‎कि मारमवाडा के निवासी तुकाराम शेतगांवकर ने अपनी पत्‍नी तन्‍वी को तिलारी सिंचाई परियोजना की नहर की कंस्‍ट्रक्‍शन साइट पर जिंदा दफ़न कर दिया।

हालां‎कि यह मुद्दा तब प्रकाश में आया जब गुरुवार प्रातः काल 10 बजे नहर पर कार्य करने वाले कर्मचारी जेसीबी की सहायता से खोदी हुई मिट्टी को बराबर कर रहे थे। इस पर बिचोलिम पुलिस का बोलना है कि जैसे ही इन लोगों ने काम प्रारम्भ किया, शेतगांवकर वहां आ पहुंचा व उसने असहमति जाहिर करते हुए मजदूरों को वहां कार्य करने से रोकने का कोशिश किया। किन्तु मजदूरों ने उसकी एक नहीं सुनी व कार्य करते रहे। इसी दौरान जेसीबी ने मिट्टी खोदी तो मजदूरों को उसके नीचे एक महिला की डेड बॉडी दिखाई दी। इसके बाद वहां खड़ा शेतगांवकर यह देखकर वहां से भाग निकला।

इसकी सूचना मिलने के बाद मौके पर पुलिस ने मृत शरीर को अपने कब्‍जे में लिया व पोस्‍टमॉर्टम के लिए गोवा मेडिकल कॉलेज पहुंचा दिया। इसके बाद शक के आधार पर शेतगांवकर को पुलिस स्‍टेशन बुलाकर पूछताछ की गई। इस दौरान उसने स्वीकार किया कि यह उसकी 44 वर्ष की पत्‍नी तन्‍वी की डेड बॉडी है। उसने पुलिस को बताया कि उसकी पत्‍नी बहुत ज्यादा दिनों से बिस्‍तर पर थी, गरीबी व निराशा से परेशान होकर उसने बुधवार रात उसे जिंदा ही दफना दिया था।