किसान से हुई नौ लाख रुपये की लूट का हुआ भंडाफोड़

 किसान से हुई नौ लाख रुपये की लूट का हुआ भंडाफोड़

हरियाणा में सिरसा जिले के अलींका गांव के पास दो दिन पहले एक किसान से हुई नौ लाख रुपये की लूट को किसान के बहनोई व भांजे ने ही अंजाम दिया था. पुलिस ने इस लूट का खुलासा करते हुए शनिवार को बताया कि इस वारदात को अंजाम देने वाले सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है तथा लूटी गई रकम भी बरामद कर ली है.

पकड़े गए आरोपियों की पहचान गुरजीत सिंह उर्फ गीता, बसंत सिंह उर्फ वीरू पुत्र नक्षत्र सिंह, सोहन लाल उर्फ सोनू पुत्र साहब राम निवासी नागोकी के रूप में हुई है. उनसे पूछताछ के बाद ही बाकी दो आरोपियों की पहचान हुई व लूट की साजिश का खुलासा हुआ है. इन तीन आरोपियों से तीन लाख व बाकी दो आरोपियों से 6 लाख रुपये बरामद कर लिए गए हैं.

पुलिस अधीक्षक अरुण नेहरा ने बताया कि करीब 30 वर्ष पहले बलदेव सिंह ने नागोकी में एक एकड़ जमीन खरीदी थी. उस पर बलदेव के बहनाई नक्षत्र सिंह व उसके भाइयों ने अतिक्रमण कर लिया. इसको लेकर इनके साथ बलदेव का टकराव चल रहा था व आपस में बोलचाल बंद थी. अब बलदेव ने इस टकराव को समाप्त करने के लिए ही अपने बहनाई व उसके चारों भाइयों से बोला कि इस एकड़ जमीन के वे पैसे ले लें व जमीन बेच दें. इस पर उनकी सहमति बन गई व 18 लाख रुपये में सौदा तय हुआ.

चाय पीने के लिए बुलाकर लूटा

जिसमें 9 लाख रुपये चारों बहनाइयों ने रख लिए व 9 लाख रुपये बलदेव को दे दिए. जब वह गाड़ी में पैसे लेकर निकलने लगा तो नक्षत्र व उसके बेटे वीरू के मन में बेईमानी आ गई व उन्होंने लूट का प्लान तैयार कर लिया. जमीन के सौदे के बाद जब बलदेव 9 लाख रुपये लेकर वापस चला तो नक्षत्र सिंह ने ही दबाव बनाया कि उसे उनके गांव चलकर चाय पीनी पड़ेगी. इस बहाने से वह उन्हें कच्चे रास्ते से अपने गांव नागोकी लेकर जाने लगा. इसी दौरान रास्ते में बोलेरो गाड़ी लेकर खड़े चार लोगों ने लूट की इस वारदात को अंजाम दिया.

इस तरह पुलिस को हुआ था शक

शिकायतकर्ता के अनुसार, उनके पास बंदूक व कापे थे. इसी का भय दिखाकर उनसे 9 लाख रुपये लूट लिए थे. नक्षत्र का चाय के लिए बुलाना व कच्चे रास्ते से लेकर जाना ही पुलिस के लिए उस पर शक बढ़ाता गया व आरोपियों की पहचान हो गई. लूट की वारदात में नक्षत्र का बेटा बंसत उर्फ वीरू भी शामिल था. जो नकाब में गाड़ी का चालक बना हुआ था. अब पांचों आरोपी अरैस्ट कर लिए गए हैं.

लूट में शामिल आरोपी गुरजीत सिंह उर्फ गीता निवासी नागोकी मर्डर के एक मामलें में जिला कारागार में सजा काट रहा था व वैसे पैरोल पर आया हुआ था. वह बसंत सिंह उर्फ वीरू का दोस्त है. इसलिए वारदात में वह भी शामिल हो गया. गुरजीत के विरूद्ध बड़ागुढ़ा थाने में 23 अप्रैल 2015 को मर्डर का केस दर्ज हुआ था व वह जिला जेल से 13 अप्रैल 2020 को पैरोल पर आया हुआ था. इसके अतिरिक्त उसके विरूद्ध बड़ागुढ़ा थाने में कई अन्य अपराधिक मामले भी दर्ज हैं. सभी आरोपियों का अपराधिक रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है.