कपिल उर्फ रवि कुमार ने किया इस मुद्दे में बड़ा खुलासा, पढ़े पूरी खबर

कपिल उर्फ रवि कुमार ने किया इस मुद्दे में बड़ा खुलासा, पढ़े पूरी खबर

वह दिल्ली में पांच से छह स्थान ताबड़तोड़ फायरिंग कर दहशत फैलाना चहाता था. इसके लिए उसने अपने शूटरों को आदेश दे दिए थे. वसंतकुंज में लग्जरी कार डीलर शोरूम व हरी नगर में ओउम स्वीट

पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर चुका है. दिल्ली पुलिस ने इन जगहों पर सुरक्षा बढ़ा दी है जहां आगे कौशल के शूटरों को ताबड़तोड़ फायरिंग कर रंगदारी मांगनी थी. एनकाउंटर के बाद सोमवार रात को अरैस्ट किए गए शूटर कपिल उर्फ रवि कुमार उर्फ गन्नी भाई ने खुलासा किया है कि कौशल के आदेश पर शूटर सचिन की देखरेख में वारदातों को अंजाम दिया जा  रहा था.


हिसार कारागार अधीक्षक के भय से कारागार बदलना चाहता था
स्पेशल सेल के एक वरिष्ठ ऑफिसर ने बताया कि इस बात की जाँच की जा रही है कि कौशल ने सचिन को कैसे आदेश दिए थे. इसके लिए दिल्ली पुलिस ने हिसार कारागार प्रशासन से जानकारी मांगी है कि पिछले दिनों कौशल से कौन-कौन मिलने कारागार में आया था. इस ऑफिसर ने बताया कि पुलिस की जाँच में ये पूरी तरह सामने आ चुका है कि कौशल रंगदारी के साथ-साथ कारागार भी बदलना चहाता था. वह तिहाड़ कारागार के अतिरिक्त झज्जर और भौंडसी कारागार जाना चहाता था.पुलिस की जाँच में ये बात सामने आई है कि हरियाणा प्रशासन ने गैगस्टर कौशल को हिसार कारागार में जानबूझकर भिजवाया था. बताया जा रहा है कि हिसार कारागार के अधीक्षक बहुत ही कठोर है व वह कौशल को मोबाइल आदि का प्रयोग नहीं करने दे रहा है व उस पर पूरी नजर बनाए हुए हैं. कौशल कारागार में किसी तरह की सुविधा नहीं मिलने से बेहद परेशान है.

हिसार कारागार अधीक्षक के भय से कारागार बदलना चाहता था
शूटर कपिल ने बताया कि दिल्ली में बोला फायरिंग करनी है उसकी पर्ची गुरुग्राम से बनती थी. कौशल को खास सचिन गुरुग्राम में रैकेट के अन्य सदस्यों के साथ पर्ची तय करता था कि दिल्ली में कहां फायरिंग करनी है व कितने की रंगदारी मांगनी हैं. दिल्ली पुलिस अधिकारियों को संभावना है कि कौशल रैकेट के मेम्बर अभी भी वारदात कर सकते हैं. हरियाणा पुलिस ने साल 2016 में संदीप घड़ोली को मुंबई में एनकाउंटर में मार गिराया था. संदीप के मारे जाने के बाद रैकेट की कमान कौशल ने संभाल ली थी. कौशल रैकेट की बिंदर गुर्जर से गैंगवार चल रही थी. इस बीच बिंदर गुर्जर और गुरुग्राम पुलिस के कुछ पुलिसवालों के विरूद्ध गुरुग्राम में मुद्दा दर्ज हुआ था. इस दौरान कौशल ने बिंदर गुर्जर के भाई समेत तीन लोगों की मर्डर की थी. मर्डर करने के बाद ये हरियाणा और दिल्ली में रंगदारी मांगने लगा. इसके बाद ये नकली पासपोर्स से दुबई व फिर थाइलैंड चला गया व वहां अपने रैकेट को चलाने लगा.

कपिल की सचिन से भौंड़सी कारागार में मुलाकात हुई
स्पेशल सेल में तैनात इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह यादव और विवेकानंद पाठक की टीम ने रोहिणी से एनकाउंटर के बाद अरैस्ट किए गए कपिल उर्फ रवि गुर्जर को सोमवार रात को हिरासत में लिया था. कौशल की मां कपिल के गांव शाहपुर जाट गांव, हरियाणा गांव की है. कपिल कौशल की जीवन स्टाइल से बहुत प्रभावित था. गुरुग्राम पुलिस ने आम्र्स एक्ट में फरवरी, 2020 में कपिल को हिरासत में लिया था. कारागार में इसकी मुलाकात कौशल के खास सचिन से हुई थी. कपिल 16 दिन में कारागार से बहार आ गया था. कपिल 31 जुलाई को सेक्टर-10 गुरुग्राम में सचिन से मिला. सचिन ने कपिल को बताया कि कौशल ने दिल्ली में वारदात करने के आदेश दिए हैं.

कौशल के आदेश मिलते ही वारदातों को अंजाम देना प्रारम्भ कर दिया था
सचिन और कपिल ने कौशल के आदेश मिलते ही दिल्ली में वारदात करना प्रारम्भ कर दिया था. सबसे पहले हरी नगर स्थित ओउम स्वीट्स के यहां फायरिंग कर रंगदारी मांगी थी. यहां पर सचिन और कपिल ने फायरिंग की थी. यहां से गुरुग्राम पहुंचकर सचिन ने कपिल को मोटरसाइकिल दे दी थी. एक अगस्त को वसंतकुंज में लग्जरी कार डीलर शोरूम पर फायरिंग की थी. यहां इनके साथ तीसरा शूटर कारतूस शामिल हो गया था. अगली वारदात के लिए इनको जापानी पार्क के पास मिलना था. यहां एनकाउंटर के बाद स्पेशल सेल ने कपिल को दबोच लिया.