आईएसआई एजेंट मोहम्मद राशिद के घर में की छापेमारी, पढ़े

आईएसआई एजेंट मोहम्मद राशिद के घर में की छापेमारी, पढ़े

 राष्ट्रीय जाँच एजेंसी ( NIA ) ने उत्‍तर प्रदेश के वाराणसी व चंदौली में छापेमारी के बाद पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ( ISI ) के एक एजेंट को हिरासत में लिया है. 

आरोपी के विरूद्ध सेना की गतिविधियों से जुड़ी सामरिक रूप से महत्‍वपूर्ण ठिकानों के फोटो व सूचनाएं पाक स्थित संदिग्‍ध हैंडलर्स को भेजने का आरोप है.

एनआईए ने पहले वाराणसी में आईएसआई एजेंट मोहम्मद राशिद के घर छापेमारी की. उसके बाद राशिद को लेकर एनआईए और एटीएस की 15 सदस्यीय टीम रविवार की प्रातः काल सवा छह बजे चंदौली पहुंची. एनआईए की टीम ने चंदौली में पीडीडीयू शहर कोतवाली क्षेत्र के चौरहट नयी बस्ती गांव स्थित आरोपी के घर की घंटों तलाशी ली. इस दौरान राशिद के परिजनों से भी पूछताछ की. लगभग चार घंटे तक पड़ताल के बाद टीम आरोपी राशिद को लखनऊ लेकर रवाना हो गई.

जानकारी के मुताबिक छानबीन के दौरान टीम ने राशिद को उसके परिजनों से वार्ता करने की अनुमति नहीं दी. एटीएस और एनआईए की टीम ( ATS and NIA Team ) ने कुछ इनपुट मिलने के बाद जाँच पड़ताल तेज कर दी है. हालांकि जाँच अधिकारियों इस मुद्दे में अभी तक किसी तरह की आधिकारिक जानकारी नहीं दी है.

बता दें कि चौरहट नयी बस्ती गांव में 19 जनवरी की रात को एटीएस की टीम ने राशिद को उसके आवास से हिरासत में लिया था. एटीएस के मुताबिक राशिद 2017 और 2018 में कराची ( Karachi ) अपनी मौसी के घर गया था. जहां वह आईएसआई के सम्पर्क में आ गया. हिंदुस्तान वापस लौटने के बाद वह देश के जरूरी सैन्य ठिकानों की फोटो पाक की आईएसआई को भेजा था.

फिलहाल राशिद का मुद्दा न्यायालय में लंबित है. एटीएस और एनआईए मुद्दे की जाँच पड़ताल करने में जुटी ( ATS and NIA are involved in investigating the case ) है. 15 जून को एटीएस की टीम ने आरोपी को उसके मामा शमसीर और मौसा सोनू से लखनऊ में प्रातः काल 9 से शाम तक पूछताछ करने बाद छोड़ा था.

इस बारे में एनआईए की ओर से जारी एक बयान में बोला गया है कि ये छापे मोहम्‍मद राशिद के चंदौली व वाराणसी स्थित घरों पर मारे गए. राश‍िद को 19 जनवरी को अरेस्‍ट किया गया था. उस पर भारतीय दंड संहिता ( IPC ) तथा अवैध गतिविधि रोकथाम कानून (UAPA ) के तहत मुद्दा दर्ज किया गया. अधिकारियों ने बताया कि राशिद पाकिस्‍तान में स्थित अपने हैंडलर्स के सम्पर्क में था. यही नहीं वह दो बार पाकिस्‍तान जा चुका है.

राशिद को हिंदुस्तान में संवेदनशील व रणनीतिक रूप से महत्‍वपूर्ण प्रतिष्‍ठानों के फोटो व सेना की गतिविधियों से जुड़ी सूचनाएं आईएसआई को भेजते हुए पकड़ा गया. तलाशी के दौरान राशिद के घर से मोबाइल फोन व कुछ आपत्तिजनक दस्‍तावेज मिले हैं. राशिद से पूछताछ अभी जारी है. एनआईए यह पता लगाने की प्रयास कर रही है कि कोई व जासूसी में शामिल तो नहीं था.