आधार कार्ड बनाने वाले रैकेट का पर्दाफाश, आइए जानिए

आधार कार्ड बनाने वाले रैकेट का पर्दाफाश, आइए जानिए

आज के समय में क्राइम के मुद्दे दिन पर दिन बचते चले जा रहे हैं. अब इसी बीच गुजरात के सूरत में विधायक के फर्जी हस्ताक्षर व मुहर का प्रयोग कर आधार कार्ड बनाने बनाने वाले रैकेट का पर्दाफाश हुआ है. 

इस मुद्दे में पुलिस ने पांच लोगों को अरैस्ट कर लिया है. पुलिस का बोलना है कि, 'आरोपी 600 रुपये लेकर आधार कार्ड बनवाने के लिए फॉर्म भरवाते थे व कामरेज के विधायक के फर्जी दस्तखत व मुहर का प्रयोग कर रहे थे.'


 

इसके अतिरिक्त उन्होंने यह भी बताया कि आधार कार्ड सेंटर में विधायक के लैटर की जाँच की गई तो उस दौरान इस फर्जीवाड़े के बारे में पता चला. इस फर्जीवाड़े का प्रयोग कर अब तक 40 आधार कार्ड बनाए जा चुके हैं. इस मुद्दे में उधना की गायत्री सोसाइटी में रहने वाले विधायक के पीए अंकित नायक ने बताया कि '12 सितंबर को अडाजण, पाल में चल रहे आधार कार्ड सेंटर से विधायक को फोन पर जानकारी दी गई कि आधार कार्ड बनवाने के लिए विधायक के नाम का लैटर आया है, जो फर्जी है. विधायक ने मुझे जाँच के लिए भेजा. मैंने जाँच की तो फॉर्म पर कोसाड के अभिषेक रेजिडेंसी में रहने वाली सेलिया शिवाली जीवराज का नाम लिखा था व उसकी फोटो लगी हुई थी. उसके नीचे ही विधायक के दस्तखत थे व मुहर लगी थी.'


 

आगे अंकित नायक ने बोला उन्होंने सेलिया शिवाली से फोन पर बात की व विधायक के दस्तखत व मुहर के बारे में पूछा. यह सुनकर सेलिया ने बोला कि उसे इस बारे में कुछ पता नहीं है. उसने बताया कि शिवाली ने मितेश को आधार कार्ड बनाने के लिए फोटो व दस्तावेज दिए थे. उसी के लिए मितेश ने 600 रुपये भी लिये थे. वहीं उसने आगे बताया मितेश फॉर्म भरकर शहजाद दीवार व मेहुल पटेल को देता था व शहजाद व मेहुल हीराबाग में स्थित रूपाली सोसाइटी में रहने वाले मयूर मोडिया के पास ले जाते थे. वहीं मयूर के पास विधायक वीडी झालावाड़िया का डुप्लीकेट स्टैंप है व उसके कार्यालय में कार्य करने वाला पराग वाघेला विधायक के दस्तखत करता था. अब इस मुद्दे में पुलिस ने सभी को अरैस्ट कर लिया है.