दुबई की लग्जरी जीवन छोड़कर यह दो महिला आई गांव के विकास का सपना लेकर

दुबई की लग्जरी जीवन छोड़कर यह दो महिला आई गांव के विकास का सपना लेकर

जिले के श्रीमाधोपुर पंचायत समिति में दूसरे चरण के चुनाव को लेकर नांगल ग्राम पंचायत की एक प्रत्याशी खासी चर्चा में है। श्रीमाधोपुर पंचायत समिति की कुल 23 ग्राम पंचायतों में द्वितीय चरण में 22 जनवरी को चुनाव होने हैं।

में ही 22 जनवरी को चुनाव होने हैं। अजमेर शहर की बेटी तथा नांगल गांव की बहू सुनीता कंवर चुनाव लड़ने के लिए दुबई की लग्जरी जीवन छोड़कर यहां गांव के विकास का सपना लेकर आई हैं।

नीता कंवर बीते 13 बरसों से दुबई में रह रही हैं। सुनीता कंवर के पति जोधा सिंह शेखावत भी दुबई में प्राइवेट कंपनी में कार्यरत हैं। जोधा सिंह के पिता व परिवार के अन्य लोग गांव में ही रहते हैं।

सुनीता कंवर ने बताया कि ज़िंदगी में भगवान से जो चाहा, उससे ज्यादा पाया है। अब स्वदेश में अपने ससुराल में रहकर समाज सेवा करने की ठानी है। इसके लिए अब गांव आकर चुनाव लड़ने का सोचा है। 36 वर्षीय सुनीता कंवर स्नातक पास हैं। वे पिछले बहुत ज्यादा समय से दुबई में रह रही हैं। सुनीता कंवर वहां एक शिपिंग कंपनी में सीसीए अधिकारी के पद पर कार्यरत थी। वहां सुनीता का सालाना 25 लाख रुपये का पैकेज था।

महिलाओं को आर्थिक स्वतंत्रता दिलानी है
गांव के विकास के मामले को लेकर समाज सेवा करने के लिए चुनाव मैदान में उतरी हैं। सुनीता कंवर का बोलना है कि वे बालिका एजुकेशन व महिला समृद्धि लिए कार्य करना चाहती हैं ताकि स्त्रियों को आर्थिक स्वतंत्रता मिल सके। सुनीता कंवर खुद कुछ स्त्रियों को साथ लेकर खुद अपनी फॉरच्यूनर गाड़ी चलाकर अपना प्रचार करने ढाणियों में जाती है।

सुनीता का बोलना है कि दुबई में नौकरी के दौरान महसूस किया कि विदेश में रहने वाले प्रवासी अपने लोग अपनी माटी के लोगों के लिए बहुत कुछ करने की चाहत रखते हैं। बस उन्हें प्रोत्साहित करने की जरूरत है।

गौरतलब है कि सुनीता कंवर के पीहर तथा ससुराल पक्ष में आज से पहली कभी भी कोई पॉलिटिक्स में नहीं आया।