स्पेशल डॉक्टर मलेरिया-डेंगू और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों से बचाव का बनाएंगे कवच

स्पेशल डॉक्टर मलेरिया-डेंगू और चिकनगुनिया जैसी बीमारियों से बचाव का बनाएंगे कवच

बरेली. मलेरिया-डेंगू और चिकनगुनिया जैसी रोंगों से बचाव के लिए मंडल में आठ स्पेशल चिकित्सक रणनीति बनाएंगे. रोगियों की जांच के साथ ही प्रसार रोकने के लिए यह टीम सुरक्षा कवच तैयार करेगी. इस मौसम में प्रदेश के कई जिलों में संक्रामक रोगों के फैलने का खतरा है. बरेली, बदायूं में मलेरिया का प्रकोप कई सालों से रहा है. बीते वर्ष यहां डेंगू ने भी हमला किया था. रोगियों की संख्या बीते 50 सालों में सबसे अधिक थी. 

संक्रामक रोगों की रोकथाम, रोगियों के लिए उपचार के लिए राष्ट्रीय वेक्टर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम के अनुसार प्रदेश के सभी जिलों से दो-दो डॉक्टरों को लखनऊ में प्रशिक्षण दिया गया है. प्रदेश के 150 डाक्टरों को ट्रीटमेंट एंड मुकदमा मैनेजमेंट की ट्रेनिंग मिली है. मीरगंज के डाक्टर अंबरीश कुमार शर्मा, क्यारा के डाक्टर विनय कुमार पाल ट्रीटमेंट एंड मुकदमा मैनेजमेंट का प्रशिक्षण लेकर आ गए हैं. दोनों चिकित्सक मलेरिया, डेंगू, चिकनगुनिया समेत अन्य वेक्टर जनित रोगों की रोकथाम में सहायता करेंगे.

मलेरिया के 324, डेंगू के सात मरीज
मलेरिया और डेंगू के रोगी मिलने प्रारम्भ हो गए हैं. दस्तक अभियान पूरा होने के बाद जिले में मलेरिया मरीजों की संख्या 324 हो गई है. जनवरी से अब तक जिले में डेंगू के सात रोगी मिल चुके हैं. दो रोगी मीरगंज के हैं, जो बीते जुलाई में डेंगू पॉजिटिव आए थे.

कोरोना का भी प्रकोप
यूपी में कोरोना रोगियों की तादाद में इजाफे का दौर जारी है. रविवार को प्रदेश में कोविड-19 के 992 नये रोगी मिले हैं. अब कोविड-19 के एक्टिव मामलों की तादाद 4997 पर पहुंच गई है. उल्लेखनीय है कि शुक्रवार को राज्य में कोविड-19 के 906 मुकदमा मिले थे. अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया है कि प्रदेश में शनिवार को 77121 सैम्पल की जांच की गई थी जिसमें कोविड-19 संक्रमण के 992 नये मुद्दे आए हैं.