औरैया में हुई एक्सीडेंट के बाद मारे गए प्रवासी श्रमिकों के शवों की रिपोर्ट मांगी

औरैया में हुई एक्सीडेंट के बाद मारे गए प्रवासी श्रमिकों के शवों की रिपोर्ट मांगी

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने औरैया में हुई एक्सीडेंट के बाद मारे गए प्रवासी श्रमिकों के शवों व घायलों को एक साथ एक ही वाहन में ले जाने पर प्रदेश के मुख्य सचिव को नोटिस जारी किया है. आयोग ने यह नोटिस खबरों का स्वतः संज्ञान लेते हुए दिया है. मुख्य सचिव से चार हफ्ते में विस्तृत रिपोर्ट मांगी गई है.

औरैया में 16 मई को एक्सीडेंट के बाद शवों व घायलों को एक ही वाहन में ले जाया गया था. इस एक्सीडेंट में 26 श्रमिकों की मृत्यु हो गई थी जबकि 30 घायल हुए थे. एक्सीडेंट पंजाब से आ रहे वाहन की राजस्थान से आ रहे एक अन्य वाहन से टक्कर के कारण हुई थी. इस पर आयोग ने संज्ञान लेते हुए बोला है कि यह अमानवीय कृत्य था. आयोग ने बोला ऐसे में जबकि श्रमिक घायल थे, उन्हें शारीरिक कष्ट था लेकिन शवों के साथ वाहन में बैठाने पर उन्हें मानसिक यातना भी हुई.

औरैया का पुलिस प्रशासन दशा से संजीदगी से निपटने में न केवल नाकाम साबित हुआ बल्कि उसने गरीब श्रमिकों के ज़िंदगी जीने के अधिकारों का भी हनन किया. बाद में जब शवों व घायलों को एक साथ ले जाने की वीडियो सोशल मीडिया पर वायरस हुई तो औरैया प्रशासन ने शवों को एंबुलेंस से भेजा.