केटामाइन- की 50 से ज्यादा शीशियां कचरे के ढेर से की गई बरामद, जाने पूरी खबर

 केटामाइन- की 50 से ज्यादा शीशियां कचरे के ढेर से की गई बरामद, जाने पूरी खबर

जिले का पुष्कर जगत के रचयिता ब्रह्मा जी के चलते भले ही आध्यात्मिक नगरी के तौर पर पहचान रखता है, लेकिन अब लगता है कि धार्मिक नगरी पुष्कर में नशा माफिया पूरी तरह सक्रिय हो चुके हैं। दरअसल, ऑपरेशन थियेटर में मरीजों को बेहोश करने के लिए प्रयोग में आने वाले केटामाइन इंजेक्शन का प्रयोग पुष्कर में कुछ लोग नशे के लिए कर रहे हैं। केटामाइन- की 50 से ज्यादा शीशियां कचरे के ढेर से बरामद की गई।

पुष्कर के राजकीय चिकित्सालय प्रभारी चिकित्सक आर। के। गुप्ता के मुताबिक, केटामाइन-50 का इस्तेमाल, ऑपरेशन थियटर में मरीजों को बेहोश करने के लिये किया जाता है। साथ ही चिकित्सक के लिखे बिना सरकारी अस्पताल व मेडिकल स्टोर पर इसको किसी भी तरह से नहीं दिया जा सकता। जिसके बाद भी इसकी शीशियां कचरे के ढेर से बरामद होना कई सवाल खड़े करती है। इसका प्रयोग लोग नशे के लिए कर रहे हैं, या अस्पताल वेस्ट के निस्तारण को लेकर अस्पताल प्रबंधन गंभीर नहीं है।

वहीं, पुष्कर के आम नागरिकों ने चिंता जताते हुए पुष्कर में इस नशे की प्रवृत्ति पर रोक लगाने व इसके सौदागरों को बेनकाब करने की अपील प्रशासन से की है। आपको बता दें, कि अरसे से पुष्कर में नशे का काला कारोबार धड़ले से जारी है। ऐसे में देखना होगा कि पुलिस प्रशासन किस हद तक युवाओ की नसों में घुलते जहर पर रोक पाता है।

गौरतलब है कि पहले भी पुलिस नसे की गिरफ्त में आ चुकी युवाओं को नसे की लत से दूर करने के लिए कई कोशिश कर चुकी है। यहां तक कि पुलिस द्वारा नशे की लत से दूर रहने के लिए पुलिस कई तरक के कार्यक्रमों का आयोजन भी करती आई है ताकि समाज में नशे से दूर रहने के लिए लोगों को संदेश दिया जा सके।