आरबीआई कॉलोनी बनी लखनऊ की पहली इको फ्रेंडली कॉलोनी

आरबीआई कॉलोनी बनी लखनऊ की पहली इको फ्रेंडली कॉलोनी

यूपी की राजधानी लखनऊ के सेक्टर-जे अलीगंज में बनी भारतीय रिजर्व बैंक आवासीय कॉलोनी पहली इको फ्रेंडली (Eco Friendly) कॉलोनी बन गई है, जहां तपिश कम करने के सारे व्यवस्था किए गए हैं वहीं, बिजली बचाने के लिए सौर ऊर्जा और सोलर वाटर हीटर का उपयोग किया जा रहा है इसके अतिरिक्त सभी प्रमुख जगहों पर सेंसर लगे हुए हैं, जिसके जरिए कमरा खाली होने पर लाइट्स अपने आप बंद हो जाती हैं जबकि पेट्रोल-डीजल की स्थान पर इलेक्ट्रिक वाहनों का उपयोग होता है पार्किंग में इलेक्ट्रिक वाहनों की चार्जिंग की सुविधा भी है

यही नहीं, बारिश का पानी बर्बाद ना हो इसके लिए रेन वाटर हार्वेस्टिंग पूरी कॉलोनी में 4 जगहों पर बनाया गया है इस कॉलोनी में 250 परिवार रहते हैं भारतीय रिजर्व बैंक कॉलोनी को भारतीय ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (Indian Green Building Council) ने ‘प्लैटिनम’ रेटिंग 2022-25 दी है मानकों पर खरी उतरी आरबीआई की कॉलोनी को 100 में से 87 अंकों के आधार पर प्लैटिनम रेटिंग दी गई है यह कॉलोनी पूरी तरह से इको फ्रेंडली है

ये हैं इस कॉलोनी की खासियतें
1- इस कॉलोनी में एंट्री गेट पर हैंड सैनिटाइजर लगाया गया है कॉलोनी में प्रवेश करने वाला हर आदमी सबसे पहले इस हैंड सैनिटाइजर से हाथों को साफ करता है

2- इस पूरी कॉलोनी में ढाई सौ से अधिक पेड़ हैं, जिसमें डेढ़ सौ के करीब अशोक के पेड़ हैं.19,750 वर्ग मीटर के कुल क्षेत्रफल में हरियाली को ऑफिसरों ने 35 प्रतिशत तक बढ़ाया है

3-इलेक्ट्रिक गाड़ी का उपयोग हो रहा है, तो पार्किंग में 3 चार्जिंग प्वाइंट बनाए गए हैं इसके जरिए इन इलेक्ट्रिक वाहनों को उनके मालिक चार्ज कर सकते हैं

4-रसोई और बगीचे के कचरे को भिन्न-भिन्न करके जैविक कचरा संयंत्र के जरिए उसमें डालकर खाद बनाया जाता है जैविक और अजैविक कचरा दोनों ही भिन्न-भिन्न कूड़ेदान में भी डाला जाता है

5-कॉन्फ्रेंस हॉल, जिम और कुछ प्रमुख जगहों पर सेंसर लगा हुआ है, जिसके जरिए कमरा खाली होते ही अपने आप वहां की लाइट बंद हो जाती हैं, जिससे बिजली की बर्बादी नहीं होती

6-इस कॉलोनी में बोलार्ड लाइट्स लगाई गई हैं इन लाइट्स की विशेषता यह होती है कि यह सोलर से जलती हैं

7-इस कॉलोनी में छत के ऊपर एक अलग तरह का सफेद रंग का पेंट कराया गया है, जिसके जरिए बिल्डिंग में तपिश नहीं होती है वहीं, तापमान सामान्य बना रहता है

8- बिजली के भार को कम करने के लिए 25 केवीए का ऑन ग्रिड सोलर प्लांट लगाया गया है यही नहीं, 500 और 200 लीटर क्षमता के सोलर वाटर हीटर भी लगाए गए हैं

9- इस कॉलोनी में ओपन जिम और इनडोर जिम दोनों ही बने हुए हैं इसके अतिरिक्त बच्चों के लिए पार्क बना हुआ है साथ ही दिव्यांगों के लिए भी इस कॉलोनी में अच्छी सुविधा भी दी गई है, ताकि उन्हें कहीं से भी चढ़ने उतरने में दिक्कतों का सामना न करना पड़े इसके अतिरिक्त इस कॉलोनी में एक वर्कफ्रॉम होम ऑफिस और एक डिस्पेंसरी भी बनी हुई है

क्या कहते हैं अधिकारी
रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया के क्षेत्रीय निदेशक डाक्टर बालू केंचप्पा ने बताया कि देशभर के सभी रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया की कॉलोनी को ग्रीन कॉलोनी बनाने पर जोर दिया जा रहा है उन्होंने बताया कि लखनऊ की इस कॉलोनी को भारतीय ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल की ओर से ग्रीन रेजिडेंशियल सोसायटी रेटिंग सिस्टम से कॉलोनी को प्लैटिनम रेटिंग दी गई है अभी इस कॉलोनी में और कई बड़े परिवर्तन किए जाने पर विचार किया जा रहा है उन्होंने बताया कि प्लैटिनम रेटिंग मिलना उनके और उनकी टीम के लिए बड़ी उपलब्धि है
वहीं, रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया के इलेक्ट्रिकल इंजीनियर दिगंत चंद्रा ने बताया कि भारतीय ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल की टीम इस कॉलोनी में आई थी पूरा निरीक्षण किया था सभी जरूरी बिंदुओं को जांचा था इसके बाद भारतीय ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल के मानकों के आधार पर 100 में से 87 मानकों पर यह कॉलोनी खरी उतरी थी जिस वजह से इसको प्लैटिनम 2022-25 मिला है रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया के सिविल इंजीनियर संजय गज्जर ने बताया कि इस कॉलोनी को पूरी तरह से इको फ्रेंडली बना दिया गया है इससे पर्यावरण सुरक्षित रहेगा ही, इसके साथ लोगों की स्वास्थ्य पर भी इसका अच्छा असर पड़ेगा और आने वाले समय में इसके असर देखने को भी मिलेगा