कानपुर में शिवालयों में उमड़ा भक्तों का हुजूम, मास्क लगाकर ही भक्तों को दिया गया प्रवेश

कानपुर में शिवालयों में उमड़ा भक्तों का हुजूम, मास्क लगाकर ही भक्तों को दिया गया प्रवेश

पवित्र श्रावण मास के दूसरे सोमवार को भोर पहर से शिवालयों में भक्त बाबा के दर्शन को पहुंचने लगे। संक्रमण के नियमों का पालन करते हुए शिवालयों में भक्तों को दर्शन पूजन किया। मंदिर प्रबंधन और पुलिस प्रशासन ने मिलकर मास्क लगाने वाले भक्तों को प्रवेश दिया। बाबा आनंदेश्वर मंदिर में गर्भ गृह में भक्तों को प्रवेश नहीं दिया गया। जागेश्वर महादेव मंदिर में 50-50 भक्तों को प्रवेश देकर पूजन कराया गया।

संक्रमण के चलते श्रावण मास के दूसरे सोमवार को भी भक्तों को नियमों का पालन करते हुए मंदिरों में पहुंचे। बाबा आनंदेश्वर मंदिर परमट में भक्तों को मास्क लगाकर ही मंदिर में प्रवेश दिया गया। भक्तों ने टनल के जरिए दूध और जल अॢपत कर बाबा से सुख-समृद्धि की कामना की। टनल के जरिए बेल पत्र और पुष्प अॢपत कर बाबा का जलाभिषेक किया। मंदिर परिसर में बैरिकेडिंग लगाकर महिला व पुरुषों को दर्शन कराए गए। इसी प्रकार नवाबगंज स्थित जागेश्वर महादेव मंदिर में भी मुख्य द्वार पर कैंप लगाकर सैनिटाइजेशन और मास्क लगाकर आने वाले भक्तों को 50-50 की संख्या में प्रवेश दिया गया। मंदिर कमेटी के महामंत्री प्राण श्रीवास्तव ने बताया कि गर्भ गृह में भक्तों को बारी-बारी से प्रवेश देकर जलाभिषेक कराया गया। भक्तों को मंदिर में बाबा का विशेष पूजन व श्रृंगार पर रोक रही। वहीं, जाजमऊ स्थित सिद्धनाथ धाम में पूरे श्रावण मास मंदिर के पट बंद रखने का फैसला पुजारियों द्वारा किया गया।


जागेश्वर मंदिर में भी सुदृढ़ रही व्यवस्था: इसी प्रकार नवाबगंज स्थित जागेश्वर महादेव मंदिर में भी संक्रमण के लिए जरूरी सभी नियमों का पालन करते हुए भक्तों को सीमित संख्या में दर्शन कराए गए। मंदिर कमेटी के महामंत्री प्राण श्रीवास्तव ने बताया कि घर पर ही आरती के बाद सीमित संख्या में भक्तों को मास्क लगाकर प्रवेश दिया जा रहा है। एक बार में 5 भक्त गर्भ ग्रह में प्रवेश कर बाबा के दर्शन कर रहे हैं। पुलिस प्रशासन के साथ मंदिर प्रबंधन मिलकर भक्तों को दर्शन कराने में जुटे हुए हैं।

वनखंडेश्वर मंदिर में भक्तों ने बरता संयम: पी रोड स्थित वनखंडेश्वर मंदिर और कल्याणपुर स्थित सोमनाथ मंदिर में भी भक्तों को शारीरिक दूरी का पालन कर आकर दर्शन कराने की व्यवस्था सुचारू है। वनखंडेश्वर मंदिर में भक्तों को मास्क की अनिवार्यता के साथ दर्शन कराया जा रहा है। मंदिर प्रबंधन कमेटी ने बताया कि मंदिर में अधिक भीड़ बढ़ने पर गर्भ गृह में किसी भी भक्तों को प्रवेश नहीं दिया जाएगा। संक्रमण के बीच भक्तों में आस्था और संयम का माहौल देखने को मिला। ज्यादातर शिवालयों में भक्तों ने शारीरिक दूरी और मास्क का पालन करते दिखे। पुलिस प्रशासन भी शिवालयों के बाहर भक्तों को व्यवस्थित करने के लिए भोर पहर से ही तैनात रहा।


धर्मेन्द्र प्रधान से स्थिति की स्पष्ट, CM योगी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा विधानसभा चुनाव

धर्मेन्द्र प्रधान से स्थिति की स्पष्ट, CM योगी के नेतृत्व में लड़ा जाएगा विधानसभा चुनाव

उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के चुनावी चेहरा तथा नेतृत्व को लेकर चुनाव प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान ने शुक्रवार को स्थिति स्पष्ट कर दी। भाजपा प्रदेश मुख्यालय में उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव प्रभारी धर्मेन्द्र प्रधान ने बड़ा बयान दिया।

नरेन्द्र मोदी सरकार में शिक्षा, कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने कहा कि 2022 में उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। सीएम योगी आदित्यनाथ ही उत्तर प्रदेश में भाजपा का चेहरा होंगे। प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ ही भाजपा की तरफ से मुख्यमंत्री का चेहरा होंगे। प्रधान ने कहा कि भाजपा ने फिलहाल तय किया है कि अपना दल तथा निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में 2022 का विधानसभा चुनाव लड़ा जाएगा। इसके साथ ही अन्य दलों से भी वार्ता जारी है। 2022 में भाजपा सहयोगी दलों के साथ मिलकर पीएम मोदी व सीएम योगी के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं के दम पर चुनाव लड़ेगी।


प्रधान ने कहा कि पीएम नरेन्द्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ पर जनता का अटूट भरोसा है। 2022 में उत्तर प्रदेश में एक बार फिर से भाजपा व सहयोगी दलों की सरकार बनेगी। सरकार व संगठन के काम व समन्वय के कारण हम जीतेंगे। हम सभी समाज और समुदाय को साथ लेकर चुनाव लड़ेंगे। भाजपा ने इस बीच में बहुत सारी राजनीतिक ताकत को अपने साथ जोड़ा है। इसी दौरान ही हमने सारा चुनाव का ताना बाना बुना है।