पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बोला, 'फास्ट ट्रैक स्पेशल न्यायालय की संख्या बढ़ाने'

पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बोला, 'फास्ट ट्रैक स्पेशल न्यायालय की संख्या बढ़ाने'

सपा अध्यक्ष और पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने बोला कि फास्ट ट्रैक स्पेशल न्यायालय की संख्या बढ़ाने, रात में स्त्रियों को सुरक्षित घर पहुंचाने के लिए पुलिस फोर्स की व्यवस्था करने से कुछ नहीं होगा.

ये घोषणाएं स्त्रियों को पूरी तरह सुरक्षा मिलने की गारंटी नहीं हैं. जो पुलिस दिन में बच्चियों और स्त्रियों की सुरक्षा नहीं कर सकती, वह रात में क्या करेगी? सीएम की सारी घोषणाएं ढाक के तीन पात साबित हो रही हैं.

विदेशों तक में प्रदेश की बदनामी
अखिलेश ने आरोप लगाया है कि बीजेपी की डबल इंजन सरकार तो विभाजनकारी नीतियां बनाने में ही लगी रहती है. कानून-व्यवस्था लगातार बेकार होती जा रही है. बहू-बेटियों की जिंदगी असुरक्षित बनी हुई है. इससे देश में ही नहीं, बल्कि विदेशों तक में प्रदेश की बदनामी हो रही है.

दुष्कर्म की घटनाएं न थमना चिंताजनक

सपा मुखिया ने बोला कि सबसे चिंताजनक यह है कि बलात्कार की घटनाएं रुक नहीं रही हैं. बदायूं में एक किशोरी से बलात्कार हुआ. अंबेडकरनगर में एक ऑटो चालक ने महिला से बलात्कार किया. मैनपुरी के करहल में एक छात्रा के किडनैपिंग की प्रयास हुई.

हरदोई में जिंदा जलाकर मार देने की धमकी से आतंकित दो सगी बहनों ने स्कूली पढ़ाई छोड़ दी. हरदोई में ही दो आरोपितों को पुलिस ने थाने से छोड़ दिया तो छूटते ही उन्होंने पीड़िता के घर में आग लगा दी.