प्रदूषण की चपेट के चलते देश के प्रदूषित शहरों की सूची में नंबर एक पर पहुंच चुका 'गाजियाबाद'

प्रदूषण की चपेट के चलते देश के प्रदूषित शहरों की सूची में नंबर एक पर पहुंच चुका 'गाजियाबाद'

 प्रदूषण की चपेट के चलते देश के प्रदूषित शहरों की सूची में नंबर एक पर पहुंच चुका है गाजियाबाद। सीपीसीबी के अनुसार गाजियाबाद शहर का एक्यूआई सोमवार को 396 दर्ज किया गया था जिसके बाद इसमे मंगलवार को बढ़ोतरी हुई

जिसके चलते शहर का एक्यूआई 421 तक पहुंच गया। देश के प्रदूषण की अगर बात की जाए तो गाजियाबाद ही एक ऐसा शहर है जिसकी एक्यूआई स्थिति खतरे में बनी हुई है। जिले में वायु प्रदुषण की अगर बात की जाए गाजियाबाद की हालत बेकार बनी हुई है। गाजियाबाद के बाद देश के दूसरे सबसे प्रदूषित शहर में शामिल हुआ ग्रेटर नोएडा जिसका एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) मंगलवार को 395 रेकॉर्ड किया गया।

हवा में इतना प्रदूषण फैलाने के लिए प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड कई कड़े जुर्माने लगा चुकी है जिसके चलते नवंबर से अभी तक प्रदूषण फैलाने वाले लोगो पर 50 लाख रुपये से अधिक का जुर्माना लगा चुकी है पर लोग प्रदूषण फैलाने से बाज नही आ रहे हैं। न तो सड़कों पर धूल-धक्कड़ की कमी आई है व न ही वाहनों से निकलने वाला धुआ कम हुआ है। पिछले कई दिनों से प्रदूषण से लोगों को निजात नहीं मिल पा रही है। 4 दिसंबर से लगातार एक्यूआई 300 के पार बना हुआ है।   पिछले दो दिनों में यह 400 तक पहुंच चुका है।

इससे नीचे जो शहर थे उनका प्रदूषण स्तर बेकार श्रेणी में दर्ज किया गया।   शहर में वसुंधरा क्षेत्र सबसे प्रदूषित रहा। यहां पर एक्यूआई 450 तक पहुंच गया है।   पीएम दस का स्तर 441 व पीएम 2.5 का स्तर 289 दर्ज किया गया। वहीं लोनी का एक्यूआई 423 दर्ज हुआ. यहां पर पीएम दस 402 व पीएम 2.5 का स्तर 213 रहा। इंदिरापुरम का एक्यूआई 418 रहा. यहां पर पीएम दस व पीएम 2.5 का स्तर 371 व 257 दर्ज हुआ। वहीं संजय नगर का एक्यूआई 413 रहा। यहां पर पीएम 2.5 का स्तर 213 व पीएम दस का स्तर 309 रहा।