सफाई कर्मचारियों ने विकास भवन में किया धरना प्रदर्शन

सफाई कर्मचारियों ने विकास भवन में किया धरना प्रदर्शन

विकास भवन प्रांगण में धरना प्रदर्शन करते सफाई कर्मचारी

सहारनपुर में 190 सफाई कर्मचारियों के वेतन काटने को लेकर विकास भवन में धरना प्रदर्शन किया. धरना ग्राम पंचायत राज सफाई कर्मचारी संघ के बैनर तले हुआ. संघ के पदाधिकारियों ने जिला पंचायत राज अधिकारी को ज्ञापन सौंपा. चेतवानी दी कि यदि कर्मचारियों का वेतन रक्षाबंधन से पहले नहीं मिला तो वह सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करने को विवश होंगे.

सफाई कर्मचारियों को नहीं मिला एरियर

संघ के मंडल अध्यक्ष संदीप बोहत्रा और जिलाध्यक्ष बोधराज ने बोला कि संघ पिछले समय से अपनी समस्याओं का ज्ञापन प्रेषित करता आ रहा है, लेकिन विभागीय अधिकारी उनकी समस्याओं के निराकरण की ओर कोई ध्यान नहीं दे रहे हैं. जिस कारण संघ द्वारा धरना दिया गया है. उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायतों में तैनात सफाई कर्मचारियों को जुलाई माह का वेतन रक्षाबंधन से पहले दिया जाए ताकि कर्मचारी भी रक्षाबंधन त्योहार मना सके, कुछ सालों से किसी भी प्रकार के एरियर का सफाई कर्मचारियों को भुगतान नहीं किया जा रहा है. जो कि चिंता का विषय है, जल्द से जल्द एरियर का भुगतान कराया जाए.

190 भाई कर्मचारियों का वेतन काटा

महासंघ जिलाध्यक्ष राजू नकुड़ और जिला महामंत्री योगेन्द्र कुमार वाल्मीकि ने धरने को सम्बोधित करते हुए बोला कि 190 सफाई कर्मचारियों का एक दिन का वेतन विभाग द्वारा काट लिया गया था मगर उनके द्वारा उत्तर दिये जाने पर उनका वेतन बहाल नहीं किया गया है, उनका वेतन जल्द से जल्द बहाल किया जाए शासन द्वारा कैशलेस की सुविधा दी जा रही है.

मुख्य सेविका संवर्ग की नहीं हुई पदोन्नति

13 वर्षों से मुख्य सेविका संवर्ग की पदोन्नति नहीं हुई है, जबकि प्रोन्नति के 100% पद रिक्त है. मुख्य सेविकाओं की प्रभारी बनाकर बाल विकास परियोना अधिकारी का कार्य लिया जा रहा है, किन्तु पदोन्नति नहीं की जा रही है. अनेक मुख्य सेविकाएं वित्तीय स्तरोन्नयन वेतनमान (ACP) और पदोन्नति के लाग के बगैर ही विभाग में 30-30 वर्ष तक सेवा देने के बाद भी एक ही पद से सेवानिवृत्त हो गई. विभाग द्वारा मुख्य सेविकाओं की उपेक्षा और उत्पीड़न के कारण मुख्य सेविका संवर्ग में बहुत आक्रोश है.