बारिश के चलते राजधानी में गिरा तापमान

बारिश के चलते राजधानी में गिरा तापमान

बृहस्पतिवार देर रात हुई हल्की बारिश से एक बार फिर ठंडक का एहसास हो आया. बारिश का यह दौर शुक्रवार दोपहर तक जारी रहेगा. बृहस्पतिवार को दिन भर 25 से 30 किमी प्रति घंटे की गति से चली तेज हवा से दिल्ली-एनसीआर का प्रदूषण जहां पूरी तरह नियंत्रण में आ गया है. शुक्रवार प्रातः काल से तेज हवाएं चल रही हैं, जिससे लोगों को हल्की ठंडक का अहसास हो रहा है.

मौसम विभाग के मुताबिक, पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव से हरियाणा व पंजाब में बारिश का दौर चल रहा है. दिल्ली एनसीआर में शुक्रवार दोपहर तक हल्की बारिश होगी. चूंकि यह बारिश तेज हवा के साथ होगी, लिहाजा इससे तापमान में भी थोड़ी गिरावट आएगी व ठंडक का एहसास भी बढ़ेगा. उधर स्काइमेट वेदर के मुख्य मौसम विज्ञानी महेश पलावत के अनुसार ठंडक का यह दौर रविवार तक चलेगा. सोमवार से पुन: मौसम साफ हो जाएगा व तापमान बढ़ने लगेगा.

2-3 दिन जारी रहेगा ठंडक का दौर

मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, ठंडक का यह दौर अगले दो तीन दिन तक जारी रहेगा. इसके बाद मौसम में फिर से गर्माहट का एहसास होने लगेगा. फिर ठंड के लौटने के संभावना कम ही हैं. पश्चिमी विक्षोभ के चलते मौसम में थोड़ा बदलाव जरूर होने कि सम्भावना है.

वहीं, बृहस्पतिवार को भीबादलों व सूरज के बीच भी आंखमिचौली का दौर जारी रहा. अधिकतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री अधिक 27.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. न्यूनतम तापमान भी सामान्य से तीन डिग्री अधिक 13.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ. हवा में नमी का स्तर 50 से 86 फीसद रहा. सर्वाधिक अधिकतम तापमान पालम में 28.0 डिग्री सेल्सियस जबकि सर्वाधिक न्यूनतम तापमान आयानगर में 15.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. शुक्रवार को भी बादल छाए रहेंगे. 25 से 30 किमी प्रति घंटे की गति से हवा चलेगी व अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 24 एवं 13 डिग्री सेल्सियस रहेगा.

तेज हवा से व घटा दिल्ली एनसीआर का प्रदूषण स्तर

बृहस्पतिवार को दिल्ली-एनसीआर में वायु प्रदूषण का स्तर व नीचे आ गया. केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जारी एयर बुलेटिन के अनुसार दिल्ली का एयर इंडेक्स 230 दर्ज किया गया. एनसीआर के शहरों में फरीदाबाद का एयर इंडेक्स 180, गाजियाबाद का 270, ग्रेटर नोएडा का 246, गुरुग्राम का 180 व नोएडा का 253 दर्ज किया गया. फरीदाबाद व गुरुग्राम की हवा सामान्य जबकि अन्य सभी जगहों की हवा बेकार श्रेणी में दर्ज की गई.