अजिंक्य रहाणे को कब भारतीय टीम से कर देना चाहिए बाहर, वीरेंद्र सहवाग ने तय कर दिया समय

अजिंक्य रहाणे को कब भारतीय टीम से कर देना चाहिए बाहर, वीरेंद्र सहवाग ने तय कर दिया समय

भारतीय टेस्ट टीम के उप-कप्तान व मध्यक्रम के बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे ने इंग्लैंड दौरे पर चार मैचों की टेस्ट सीरीज के दौरान अपने प्रदर्शन से बेहद निराश किया। उनके लगातार खराब प्रदर्शन के बाद ये बातें सामने आने लगी कि, आखिर उन्हें प्लेइंग इलेवन में मौका दिया ही क्यों जा रहा है और उन्हें टीम से बाहर कर देना चाहिए। हालांकि उनके खराब प्रदर्शन के बावजूद उन्हें टीम मैनेजमेंट ने बार-बार भरपूर मौके दिए, लेकिन वो हर बार उम्मीदों को तोड़ते रहे। 

अब टीम इंडिया के पूर्व ओपनर बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने बताया कि, आखिर कब रहाणे को टेस्ट टीम से बाहर कर देना चाहिए। सहवाग के मुताबिक रहाणे को भारत में खेले जाने वाले अगले टेस्ट सीरीज में मौका दिया जाना चाहिए, लेकिन अगर वो यहां पर भी फेल रहते हैं तो उन्हें जाने के लिए कह देना चाहिए। इंग्लैंड दौरे पर चार टेस्ट मैचों में 109 रन बनाने वाले रहाणे क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप में पिछले कई साल से भारत के बेहतरीन बल्लेबाजों में से एक हैं। हालांकि वो बार-बार मौके दिए जाने के बाद भी लगातार रन बनाने में सफल नहीं हो पा रहे हैं।

सहवाग ने सोनी स्पोर्ट्स पर बात करते हुए कहा कि, हर कोई बुरे दौर से गुजरता है। सवाल यह है कि आप अपने खिलाड़ी के साथ बुरे दौर में कैसा व्यवहार करते हैं, चाहे आप उसका समर्थन करें या उसे छोड़ दें। मेरे हिसाब से भारत में अगली सीरीज होने पर अजिंक्य रहाणे को मौका मिलना चाहिए। अगर वह वहां परफार्म नहीं करता है तो आप कह सकते हैं- आपके योगदान के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद। 

सहवाग ने कहा कि, मुझे लगता है कि जब आपका विदेश दौरा खराब होता है, तो आपको भारत में एक मौका मिलना चाहिए क्योंकि यह हर चार साल में एक बार आता है, लेकिन आप हर साल भारत में एक सीरीज खेलेंगे। अगर भारत में सीरीज खराब होती है तो मैं समझूंगा कि विदेशों में भी जो फॉर्म खराब था, वह वहां भी है, तो वह अब बाहर किए जाने के हकदार हैंं।


विराट कोहली के फैसले का RCB के प्रदर्शन पर नहीं पड़ा है कोई प्रभाव: माइक हेसन

विराट कोहली के फैसले का RCB के प्रदर्शन पर नहीं पड़ा है कोई प्रभाव: माइक हेसन

रायल चैलेंजर्स बेंगलुरु के मुख्य कोच माइक हेसन ने कहा कि विराट कोहली का वर्तमान सत्र के बाद इस आइपीएल फ्रेंचाइजी की कप्तानी छोड़ने के फैसले का कोलकाता नाइटराइडर्स (केकेआर) के खिलाफ टीम के प्रदर्शन पर किसी तरह का असर नहीं पड़ा। आरसीबी को केकेआर के हाथों नौ विकेट से करारी हार झेलनी पड़ी। इससे एक दिन पहले कोहली ने वर्तमान सत्र के बाद आरसीबी की कप्तानी छोड़ने की घोषणा की थी।

हेसन ने कहा कि जितना जल्दी हो सके घोषणा करना महत्वपूर्ण था। उन्होंने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा, 'नहीं, मैं ऐसा नहीं मानता। ऐसी किसी भी चीज को जल्दी दूर करना महत्वपूर्ण होता है जिससे आपका ध्यान बंटता हो। इसलिए हमने जल्द से जल्द घोषणा करने को लेकर बात की और सभी खिलाड़ी इससे अवगत थे। लेकिन, इसका वास्तव में टीम के प्रदर्शन पर कोई प्रभाव नहीं पड़ा। हमने वैसी बल्लेबाजी नहीं की जैसी हमें करनी चाहिए थी। हमने परिस्थितियों से सामंजस्य नहीं बिठाया, हमने लगातार विकेट गंवाए। हमने ऐसा कुछ भी नहीं किया जो एक बल्लेबाजी इकाई के रूप में करना चाहिए था, लेकिन मुझे अब भी इस टीम पर भरोसा है। हम जल्द ही बेहतर प्रदर्शन करेंगे।'


कोहली ने आरसीबी की कप्तानी छोड़ने की घोषणा करने से दो दिन पहले अगले महीने होने वाले विश्व कप के बाद भारत की टी-20 कप्तानी छोड़ने का भी फैसला किया था। वहीं आपको बता दें कि, आइपीएल 2021 के यूएई लेग में आरसीबी की शुरुआत काफी खराब रही और इस टीम को केकेआर ने नौ विकेट से पटखनी दे दी। इस मैच में विराट कोहली ने सिर्फ 5 रन का योगदान दिया था। हालांकि इस हार के बाद भी इस वक्त आरसीबी अंकतालिका में तीसरे नंबर पर बनी हुई है। आरसीबी ने अब तक 8 मैचों में से 5 मैच जीते हैं और 3 में उसे हार का सामना करना पड़ा है।