कोरोना वायरस महामारी के बाद क्रिकेट में क्या हो सकते हैं बदलाव, पढ़े

कोरोना वायरस महामारी के बाद क्रिकेट में क्या हो सकते हैं बदलाव, पढ़े

कोरोना वायरस महामारी के बाद क्रिकेट की आरंभ आधिकारिक रूप से कब होगी, कुछ बोला नहीं जा सकता, लेकिन क्रिकेटरों की ट्रेनिंग जल्द प्रारम्भ होने जा रही है.

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल यानी आइसीसी ने क्रिकेटरों की ट्रेनिंग व फिर क्रिकेटर की आरंभ के दौरान के लिए कुछ नियम बनाए हैं. इन नियमों का पालन हर किसी को करना होगा.

मैच या ट्रेनिंग के दौरान ना तो क्रिकेटरों को शौचालय जाने की इजाजत होगी व ना ही मैच के बीच क्रिकेटरों को मैदानी अंपायरों को कैप या चश्मा सौंपने की इजाजत होगी. ऐसे में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेटर जब दोबारा से मैदान में उतरेंगे तो उन्हें अपनी कुछ पुरानी आदतें छोड़नी होंगी. यह दिशानिर्देश आइसीसी ने क्रिकेट की बहाली को देखते हुए जारी किए हैं.

आइसीसी के नए नियमों के तहत खिलाड़ियों को अपने व्यक्तिगत सामान जैसे कैप, तौलिया, चश्मा, जंपर्स अंपायर या अपने साथी को देने की छूट नहीं होगी. आइसीसी ने अपने दिशानिर्देश में बोला है कि खिलाड़ियों व अंपायर को शारीरिक दूरी बनाकर रखनी होगी. ऐसे में खिलाड़ी अंपायरों को अपना व्यक्तिगत सामान नहीं सौंप पाएंगे. हालांकि, यह साफ नहीं है कि खिलाड़ी उनकी स्थान किसे अपना सामान सौंपेंगे?

खिलाड़ियों की मैच के दौरान मैदान पर कैप या चश्मा रखने की आसार नहीं है, क्योंकि इससे हेल्मेट के तौर पर ही पेनाल्टी लग सकती है. वहीं, आइसीसी चाहता है कि मैच प्रारम्भ होने व बाद में चैंजिंग रूम का समय भी घटाया जाए, क्योंकि कोरोना वायरस एक सतह से दूसरी सतह पर भी जा सकता है, जिससे संक्रमण फैलने का खतरा बढ़ जाता है.

ICCने जारी किएजरूरी दिशा निर्देश

- गेंद से सम्पर्क बनाने के बाद आंख, नाक, मुंह को नहीं छू सकेंगे खिलाड़ी

- गेंद के सम्पर्क में आने के बाद खुद को तुरंत सैनिटाइज करना होगा

- ट्रेनिंग के दौरान ना तो शौचालय की इजाजत, ना ही नहाने की

- व्यक्तिगत उपकरणों का प्रयोग से पहले व बाद में सैनिटाइज करना जरूरी

- बल्ला, ग्लव्स, पैड, हेल्मेट जैसे सामनों को किया जाए सैनिटाइज

- एक कुर्सी का प्रयोग नहीं करेंगे खिलाड़ी व सपोर्ट स्टाफ