SJM ने IPL का किया बहिष्कार, जानिए क्या हैं पूरा मामला

SJM ने IPL का किया बहिष्कार, जानिए क्या हैं पूरा मामला

राष्ट्रीय खुद सेवक (RSS) से संबद्ध स्वदेशी जागरण मंच (SJM) ने सोमवार को टी-20 भारतीय लीग भारतीय प्रीमियर लीग (IPL) का बहिष्कार करने की लोगों से अपील की. एसजेएम के सह-संयोजक

अश्वनी महाजन (Ashwini Mahajan) ने एक बयान जारी कर बोला कि भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) व आईपीएल की संचालन समिति (IPL Governing Committee) ने चीनी सैनिकों के साथ झड़प में शहीद हुए भारतीय सैनिकों का अनादर किया है. उन्होंने हैरानी जताई कि इसके बावजूद बीसीसीआई चीनी प्रायोजकों के साथ कैसे बना हुआ है.

जनभावना के विरूद्ध है चीनी प्रायोजकों को बनाए रखना

अश्विनी महाजन ने बोला कि जब देश अर्थव्यवस्था को चीनी प्रभुत्व से मुक्त बनाने के लिए जी-तोड़ मेहनत कर रहा है. सरकार चाइना को हमारे मार्केट से दूर रखने के लिए सभी प्रयास कर रही है. ऐसे में आईपीएल के आयोजन में चीनी प्रायोजकों के साथ जाने का बीसीसीआई का यह निर्णय देश की जनभावना के विरूद्ध है. उन्होंने बोला कि लोगों को इस क्रिकेट लीग का बहिष्कार करने पर विचार करना चाहिए.

बीसीसीआई को पुनर्विचार करने की दी सलाह

अश्विनी महाजन ने बीसीसीआई व आईपीएल के आयोजकों से चीनी कंपनियों को प्रायोजकों में बनाए रखने के निर्णय पर पुनर्विचार करने की सलाह दी. उन्होंने बोला कि देश की सुरक्षा व गरिमा से बढ़कर कुछ भी नहीं है. बता दें कि बीसीसीआई के अध्यक्ष जहां सौरव गांगुली (Sourav Ganguly) हैं, वहीं सचिव गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के पुत्र जय शाह (Jay Shah) हैं.

चीनी कंपनी वीवो के साथ है पांच वर्ष का करार

दो अगस्त को आईपीएल संचालन समिति की मीटिंग हुई थी. इस मीटिंग में आईपीएल की आधिकारिक प्रायोजक चीनी मोबाइल कंपनी वीवो के साथ बने रहने का फैसला किया गया था. फ्रेंचाइजियों के भी अपने कई करार चीनी कंपनियों के साथ हैं. वह करार भी बने रहेंगे. बता दें कि चीनी मोबाइल फोन निर्माता कंपनी वीवो आईपीएल की टाइटल प्रायोजक है. उसने 2017 में 2,000 करोड़ रुपए से अधिक का करार पांच वर्ष के लिए किया था. इस लिहाज से वह 2022 तक आईपीएल की टाइटल प्रायोजक बनी रहेगी.