भारत-न्यूजीलैंड कानपुर टेस्ट मैच के दौरान क्रिकेट फैंस ने लगाए 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' के नारे, देखें वीडियो

भारत-न्यूजीलैंड कानपुर टेस्ट मैच के दौरान क्रिकेट फैंस ने लगाए 'पाकिस्तान मुर्दाबाद' के नारे, देखें वीडियो

भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेली जाने वाली दो टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला कानपुर में खेला जा रहा है। करीब पांच साल बाद कानपुर में हो रहे टेस्ट मैच को देखने दर्शक बड़ी संख्या में पहुंच रहे हैं। मैच के दौरान ग्रीन पार्क में दर्शकों की भीड़ में पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए गए। साल 2016 के बाद कानपुर में पहली बार कोई टेस्ट मैच खेला जा रहा है।  

दर्शकों ने लगाए पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे

भारत की पारी को शुरू हुए करीब आधा घंटा बीत चुका था। फैंस ने इस दौरान टीम इंडिया के उत्साह को स्लोगन्स के जरिए बढ़ाने की कोशिश की। दर्शकों ने नारा लगाते हुए कहा, जीतेगा भाई जीतेगा, भारत जीतेगा। इसके बाद इन क्रिकेट फैंस ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे जोर-जोर से लगाए जिसमें कुछ दर्शकों ने उनका साथ देते हुए मुर्दाबाद मुर्दाबाद कहा। इसके बाद क्रिकेट फैंस ने भारत माता की जय और वंद मातरम कह कर अपनी देश भक्ति दिखाई। भारत और पाकिस्तान के बीच राजनीतिक तनाव के चलते पिछले कई सालों से दोनों टीमों के बीच कोई द्विपक्षीय सीरीज नहीं खेली गई है। 

https://twitter.com/i/status/1463738233364250626

काइल जेमीसन ने न्यूजीलैंड को दिलाई पहली सफलता

कानपुर में भारत और न्यूजीलैंड के बीच खेले जा रहे टेस्ट मैच में टीम इंडिया के कप्तान अजिंक्य रहाणे ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। रोहित शर्मा और केएल राहुल की गैरमौजूदगी में टीम इंडिया का पारी का आगाज करने मयंक अग्रवाल और शुभमन गिल आए। इऩ दोनों खिलाड़ियों को काइल जेमीसन और टिम साउदी की स्विंग गेंदबाजी के आगे काफी संघर्ष करना पड़ा। 

जेमीसन ने अपनी इन स्विंग और आउट स्विंग से दोनों बल्लेबाजों को खासा परेशान किया। भारत की  पारी का आठवां ओवर चल रहा था। उस समय मयंक अग्रवाल 13 रनों पर बल्लेबाजी कर रहे थे। इस दौरान जेमीसन की एक गेंद खेलने के प्रयास में वह चूक गए और बल्ले का किनारा दे बैठे। विकेटकीपर टॉम ब्लंडेन ने उनका कैच लपका। मयंक जब आउट हुए तो इस समय भारत का स्कोर 7.5 ओवर में 21 रन था। 

IND vs NZ: मुंबई में जन्मा ये गेंदबाज, भारतीय बल्लेबाजों को कर रहा है परेशान

IND vs NZ: मुंबई में जन्मा ये गेंदबाज, भारतीय बल्लेबाजों को कर रहा है परेशान

भारत और न्यूजीलैंड (India vs New Zealand) के बीच मुंबई के वानखेडे स्टेडियम में दूसरा टेस्ट मैच खेला जा रहा है. भारत ने दिन की शुरुआत चार विकेट के नुकसान पर 221 रनों के साथ की थी. उम्मीद थी कि भारत शुरुआती घंटे में विकेट बचाकर चलेगा और बड़े स्कोर की तरफ बढ़ेगा लेकिन कीवी टीम के गेंदबाज एजाज पटेल (Ajaz Patel) ने ऐसा नहीं होने दिया. उन्होंने दिन के दूसरे ओवर ही में ही भारत को दो बड़े झटके दे दिए और इसी के साथ वो ऐसा काम कर गए जो आज तक कोई भी कीवी स्पिनर भारत में नहीं कर पाया था. भारत ने अभी तक अपने छह विकेट खोए हैं और सभी के सभी विकेट बाएं हाथ के इसी स्पिनर ने लिए हैं.

एजाज ने दिन के दूसरे ओवर में पहले ऋद्धिमान साहा को पवेलियन भेजा. एजाज ने साहा को एलबीडब्ल्यू किया और इसी के साथ उन्होंने अपने पांच विकेट पूरे किए और इतिहास रच दिया. एजाज भारत में किसी टेस्ट मैच की पहली पारी में पांच विकेट लेने वाले न्यूजीलैंड के पहले स्पिनर बन गए हैं. अगली ही गेंद पर उन्होंने रविचंद्रन अश्विन को शानदार तरीके से बोल्ड किया. उनसे पहले जीतन पटेल ने भारत में किसी टेस्ट मैच की पहली पारी में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले स्पिनर थे. जीतन ने 2012 के भारत दौरे पर हैदराबाद में खेले गए टेस्ट मैच की पहली पारी में चार विकेट लिए थे.

सात मैचों में बड़ी उपलब्धि

एजाज का यह सातवां टेस्ट मैच है. इससे पहले वे कानपुर टेस्ट में भी खेले थे लेकिन वहां अपनी फिरकी का ज्यादा कमाल नहीं दिखा पाए थे. लेकिन मुंबई में उन्होंने भारतीय बल्लेबाजों को खासा परेशान कर रखा है. एजाज न्यूजीलैंड के लिए एशिया में सबसे ज्यादा फाइव विकेट हॉल हासिल करने वाले चौथे गेंदबाज बन गए हैं. एजाज का यह एशिया में तीसरा पांच विकेट हॉल है. इस मामले में वह टिम साउदी के बराबर हैं लेकिन साउदी ने उनसे ज्यादा मैच खेले हैं. साउदी ने 13 मैचों में ये काम किया. पूर्व कप्तान डेनियल विटोरी सबसे आगे हैं जिन्होंने एशिया में खेले 21 टेस्ट मैचों में आठ बार पांच या उससे ज्यादा विकेट लिए. दूसरे नंबर पर महान सर रिचार्ड हेडली हैं जिन्होंने 13 मैचों में पांच पार ये काम किया.

मुंबई में जन्मे हैं एजाज

एजाज का मुंबई से अलग की लगाव लगता है. उनका जन्म भी इसी शहर में हुआ था. एजाज का जन्म 21 अक्टूबर 1988 को मुंबई में ही हुआ था. जब वह आठ साल के थे तब उनका परिवार न्यूजीलैंड जाकर बस गया था और तब से वह इसी देश के वासी हैं. अब वह अपनी जन्मभूमि पर भारत को ही मात देने के लिए प्रतिबद्ध हैं.