कैप्टन केन विलियम्सन ने कहा- "टीम इंडिया को हराना कितना कठिन"

 कैप्टन केन विलियम्सन ने कहा- "टीम इंडिया को हराना कितना कठिन"

 न्यूजीलैंड ने टीम इंडिया से वेलिंगटन टेस्ट 10 विकेट से जीत लिया. शिकस्त के बाद कैप्टन कोहली टीम के प्रदर्शन से निराश दिखे. कहा- हमने अच्छा ढंग से मुकाबला नहीं किया. 

बल्लेबाजी अच्छी नहीं थी व गेंदबाजी में भी ज्यादा अनुशासित होने की आवश्यकता है. इस टेस्ट मैच में टॉस भी बहुत ज्यादा जरूरी था. दूसरी तरफ, न्यूजीलैंड के कैप्टन केन विलियम्सन ने कहा- टीम इंडिया को हराना कितना कठिन है, ये हम जानते हैं. बोल्ट व साउदी ने बेहतरीन गेंदबाजी की.


इस सीरीज में सिर्फ दो टेस्ट खेले जाने हैं. पहला टेस्ट जीतकर मेजबान टीम ने 1-0 से बढ़त हासिल कर ली है. दूसरा टेस्ट क्राइस्टचर्च में 29 फरवरी से खेला जाएगा.

अच्छी बल्लेबाजी करनी थी
मैच के बाद कोहली ने कहा, “यहां टॉस अहम साबित हुआ. बल्लेबाजी में हमे ज्यादा बेहतर प्रदर्शन करने की आवश्यकता थी. लेकिन, हम ऐसा कर नहीं पाए. पहली पारी में अगर हम 220-230 रन बनाते तो दशा कुछ व होते. गेंदबाजी बेहतर रही लेकिन इसमें भी ज्यादा अनुशासन की आवश्यकता है. हम पहली इनिंग में ही पिछड़ गए थे. इससे दबाव बढ़ा. उनके आखिरी तीन बल्लेबाजों ने 120 रन जोड़े. यहीं हम मैच से बाहर हो गए.”

पृथ्वी शॉ को वक्त चाहिए
कोहली ने गेंदबाजों की तारीफ की. साथ ही युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ का बचाव किया. टीम इंडिया के कैप्टन ने कहा, “गेंदबाजों ने अपना कार्य बेहतर किया. पहली पारी में न्यूजीलैंड के सात विकेट लेने तक हम बेहतर थे. हम चाहते थे कि लीड किसी भी हाल में 100 रन से ज्यादा न हो. लेकिन, उनके आखिरी बल्लेबाजों ने हमारा कार्य कठिन कर दिया. गेंदबाज अगर थोड़ा व अनुशासित रहते तो उन्हें खुशी मिलती. पृथ्वी शॉ को लेकर कठोर होने की आवश्यकता नहीं है. वो जल्द ही रन बनाने लगेगा. देश से बाहर यह उसका सिर्फ दूसरा टेस्ट है. रहाणे व मयंक ने अच्छी बैटिंग की. हमारी ताकत ज्यादा स्कोर बनाकर गेंदबाजों को पूरा मौका देना है. लेकिन, यहां हम ये कर नहीं पाए.”

भारतीय टीम बेहद मजबूत
जीत के बाद न्यूजीलैंड के कैप्टन केन विलियम्सन ने कहा, “हम जानते हैं कि भारतीय टीम कितनी मजबूत है. पहली पारी में हमने अच्छा स्कोर बनाया. लोअर ऑर्डर ने गेंदबाजों का कार्य सरल कर दिया. इस पिच से तेज गेंदबाजों को मदद मिल रही थी. टिम साउदी व ट्रेंट बोल्ट ने शानदार ढंग से अपने कार्य को अंजाम दिया. तेज हवा से गेंद ज्यादा स्विंग हो रही थी. पहला टेस्ट खेल रहे जैमिनसन ने भी बेहतरीन गेंदबाजी की.”