TRAI ने किया ग्राहकों के लिए यह बड़ा ऐलान

TRAI ने किया ग्राहकों के लिए यह बड़ा ऐलान

TV देखने वालों के लिए टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया अच्छी खबर लाया है। टेलिकॉम ऑथेरिटी ऑफ इंडिया (TRAI new tariff) के चेयरमैन RS शर्मा ने बताया कि ग्राहकों को अब एक चैनल देखने लिए सिर्फ 12 रुपये देने होंगे, जो कि पहले 19 रुपये थे। उन्होंने बोला कि बुके में सिर्फ 12 रुपये या उससे कम वाले चैनल ही होने चाहिए। यानी अब चैनल की कॉस्ट 19 रुपये से घटकर 12 रुपये पर आ गई है।

उन्होंने आगे बोला कि पहले कुछ चैनल के लिए ग्राहकों से 5 रुपये वसूले जाते थे, जो बाद में 19 रुपये हो गए थे। एसडी या एचडी चैनल जिनकी मूल्य भिन्न-भिन्न थी अब वह 19 रुपये के हो जाएंगे।



1 जनवरी को टेलीकॉम रेग्यूलेटर टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (TRAI) ने नया टैरिफ ऑर्डर जारी किया है। इसमें ग्राहकों को नेटवर्क कैरिज फीस के तौर पर सिर्फ 130 रुपये चुकाने होंगे। इसमें उपभोक्ता को 200 फ्री चैनल मिलेंगे। साथ ही ब्रॉडकॉस्टर 19 रुपये वाले चैनल बुके में नहीं दे सकेंगे। इसके अतिरिक्त अगर आप सिर्फ फ्री चैनल लेते हैं तो अधिकतम हर महीने 160 रुपये देनें होंगे।



1 मार्च 2020 से नयी दरें लागू होंगी
ब्रॉडकास्टर 15 जनवरी तक अपने चैनल की दरों में परिवर्तन करेंगे। 30 जनवरी तक दोबारा सभी चैनल की रेट लिस्ट पब्लिश होगी। 1 मार्च 2020 से नयी दरें लागू होंगी।  यानी कि 1 मार्च से टीवी देखना सस्ता हो जाएगा व आपके केबल टीवी व डीटीएच का बिल कम हो जाएगा।   टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया ने चैनल के लिए कैरिज फीस 4 लाख रुपये तय की है। )

नए नियम से सस्ते टीवी चैनल देखने वालों को बड़ी राहत मिलेगी क्योंकि कई बार ऐसा होता था केबल ऑपरेटर्स एक चैनल का नाम बताकर कई ऐसे चैनल का ग्रुप बना देते थे जिसे ग्राहक देखना नहीं चाहता था। जानकारी के लिए बता दें कि टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया ने पिछले वर्ष नयी टैरिफ पॉलिसी लागू की थी, जिसमें दर्शक सिर्फ उन चैनल के लिए पैसे देंगे, जिन्हें वह देखना चाहते हैं। इस नए नियम के लागू होने से पहले ग्राहकों को हर चैनल ब्रॉडकास्टर्स पैकेज में मिलते थे, जिसकी वजह से ग्राहकों को उन चैनल्स के लिए भी भुगतान करना होता था, जिन्हें वह नहीं देखना चाहते थे।



नए टैरिफ के विरूद्ध एकजुट हुए TV ब्रॉडकास्टिंग के टॉप बिज़नेसमैन
हाल ही में टेलीविजन ब्रॉडकास्टिंग इंडस्ट्री के टॉप बिज़नेसमैन टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया के नए टैरिफ के विरूद्ध एकजुट हुए थे। क्षेत्र के उद्यमियों का बोलना है कि चैनलों की अधिकतम दर तय करने से ब्रॉडकास्टिंग मटिरियल के प्रोडेक्शन व रोजगार प्रभावित होगा, साथ ही वृद्धि धीमी पड़ेगी। ब्रॉडकास्टिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया (IBF) ने बोला कि सब्सक्राइबर के लिये शुल्क कम करने का टेलीकॉम रेगुलेटरी अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया का कदम एक तरह का सूक्ष्म नियमन है व यह उद्योग जगत का भविष्य जटिल बनाने वाला है।



अभी कितना है आपके केबल/DTH का बिल

- NCF - नेटवर्क कैपेसिटी फीस+18%GST
- NCF - 130 रुपये+18%GST = 153 रुपये
- 153 रुपये में 25 फ्री+75 पेड (100) चैनल तक
- पेड चैनल का पैसा अलग से लगता है
- 100 चैनल से ज्यादा लेने पर NCF बढ़ता है
- एक्सट्रा हर 25 चैनल का NCF- 20 रुपये+GST



 नए नियम से अब क्या बदलेगा?
- 130 रुपये के NCF में 200 चैनल तक ले पाएंगे
- 100 से ज्यादा चैनल देखते हैं तो लाभ होगा
- आ-ला-कार्ट चैनल, बुके की कीमतें घटेंगी
- एक से ज्यादा TV हैं तो NCF में बचत होगी।