अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर फिर एक बार बड़ी समाचार, जानिए

अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर फिर एक बार बड़ी समाचार, जानिए

अर्थव्यवस्था के मोर्चे पर फिर एक बार बड़ी समाचार है। हाल के दौर में स्लोडाउन की समस्या से जूझ रही भारतीय अर्थव्यवस्था के बारे में बेहद चिंता करने की आवश्यकता नहीं है।

 

अंतर्राष्ट्रीय रेटिंग एजेंसी S&P ने हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था की रेटिंग स्टेबल BBB- बरकरार रखी है। बोला है कि मौजूदा दौर के बावजूद भी हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था अच्छा कार्य कर रही है व आने वाले समय के लिए लंबे समय के ग्रोथ के लिए भी बहुत मजबूत रहेगी।

वहीं वित्त मंत्रालय के हवाले से यह भी समाचार आई है कि सरकार ने स्लोडाउन के बीच नकदी की समस्या से निपटने के लिए जो कर्ज़ मेला लगाए थे उसमें 4.91 लाख करोड़ रुपए का कर्ज़ बांटा गया है। यह कर्ज़ अकेले अक्टूबर नवंबर महीने में बंटा है।

MSME  को 72,985 करोड़ रुपए का कर्ज़ दिया, NBFC को 45,153 करोड़ रुपए दिए गए। कॉरपोरेट कर्ज़ 2,20,151 करोड़ रुपए के बांटे, होम कर्ज़ 27,254 करोड रुपए, व्हीकल कर्ज़ 11,088 करोड रुपए ,एजुकेशन कर्ज़ 1,111 करोड रुपए, एग्रीकल्चर कर्ज़ 78,374 करोड रुपए व दूसरे कर्ज़ 38704 करोड़ रुपए के बांटे गए।

जानकारों के मुताबिक, नकदी की समस्या हल होने से रोलिंग स्टॉक की पोजीशन पर पॉजिटिव प्रभाव पड़ा है। स्लोडाउन की समस्या से निपटने के लिए सरकार ने व भी कई कदम उठाए हैं सरकार के मुताबिक इन कदमों का प्रभाव अगली तिमाही तक देखने को मिलेगा। यानी अर्थव्यवस्था की तस्वीर चिंताजनक वैसे नहीं है।