Smart Phone सबसे अधिक मासिक डेटा खपत रहेगी, पढ़े

Smart Phone सबसे अधिक मासिक डेटा खपत रहेगी, पढ़े

कोविड-19 व लॉकडाउन के चलते डेटा की मांग बढी है. मार्च से मध्य जुलाई तक देश में डेटा की खपत में 497 फीसदी की वृद्धि देखी गई है. डेटा खपत मुख्य रूप से ओटीटी व वीडियो यानी वीओडी प्लेटफॉर्म पर हो रहा है.

 इसका मतलब यह कि लोग घरों में बैठकर मोबाइल या सिस्टम पर डेटा का ज्यादा उपयोग कर रहे हैं.

फ्रैंकफर्ट स्थित इंटरनेट एक्सचेंज के अनुसार, फरवरी 2020 के मुकाबले मार्च व अप्रैल के बीच डे-सिक्स, ओटीटी व वीडियो यानी वीओडी प्लेटफॉर्म पर पर डेटा की खपत में 249% की वृद्धि हुई थी. वहीं, मार्च से 18 जुलाई के दौरान डेटा की खपत की मांग 947% ज्यादा बढ़ गई.

नवंबर तक खपत पैटर्न पहले जैसा ही रहने वाला है

नोकिया का वार्षिक मोबाइल ब्रॉडबैंड इंडिया ट्रैफिक इंडेक्स (फरवरी 2020) की रिपोर्ट के मुताबिक ओटीटी प्लेटफॉर्म पर ग्राहक औसतन 70 मिनट प्रति दिन खर्च करता है. FE, DE-CIX इंडिया के वरिष्ठ वीपी सुधीर कुंदर ने बोला कि मैं यह नहीं कहूंगा कि जुलाई से अक्टूबर-नवंबर तक आपको 900% की बढ़त दिखाई देगी लेकिन खपत पैटर्न पहले जैसा ही रहने वाला है. इसका कारण है कि महामारी ने लोगों की लाइफस्टाइल को बदल दिया है. ज्यादातर लोग अब सोशल डिस्टेंसिंग के चलते कम ही बाहर निकलेंगे व अधिकांश कंपनियों के वर्क फॉर्म होम भी वर्ष के अंत तक के लिए कर दिया गया है.

25 जीबी पहुंच सकती है प्रति आदमी मासिक डेटा खपत

टेलीकॉम इक्विपमेंट बनाने वाली प्रमुख कंपनी एरिक्सन मोबेलिटी रिपोर्ट के मुताबिक, हिंदुस्तान में प्रति आदमी मासिक डेटा खपत 2025 तक प्रति माह 25 जीबी तक पहुंच सकती है. साल 2019 में यह 12 जीबी प्रति माह थी जो वैश्विक स्तर पर इंटरनेट (डेटा) का सबसे अधिक उपयोग है. जून 2020 की 'मोबिलिटी रिपोर्ट' में बोला है कि इसकी प्रमुख वजह देश में मोबाइल इंटरनेट का सस्ता होना व लोगों की आदत में वीडियो देखना शामिल होना है.

प्रति Smart Phone सबसे अधिक मासिक डेटा खपत रहेगी

रिपोर्ट के मुताबिक देश में इंटरनेट खपत की गति आगे भी बनी रहेगी. साथ ही प्रति Smart Phone सबसे अधिक मासिक डेटा खपत रहेगी. रिपोर्ट की मानें तो देश में केवल चार फीसदी घरों में ही ब्रॉडबैंड लाइन है. ऐसे में इंटरनेट तक पहुंचने के लिए मुख्य जरिया Smart Phone ही है. एरिक्सन मोबिलिटी रिपोर्ट के कार्यकारी एडिटर व स्ट्रेटेजिक मार्केटिंग के प्रमुख प्रतीक सरवाल ने बोला कि देश में इंटरनेट का उपयोग 2025 तक तिगुना होकर 21 ईबी (एक्जाबाइट) होने का अनुमान है.

ग्रामीण क्षेत्रों में भी Smart Phone यूजर्स की संख्या बढ़ी

इसकी वजह देश में ग्रामीण क्षेत्रों समेत Smart Phone यूजर्स की कुल बढ़ती संख्या व प्रति Smart Phone औसत इंटरनेट उपयोग में वृद्धि होना है. उन्होंने बोला कि देश में 2025 तक 41 करोड़ Smart Phone व जुड़ने की आसार है. ऐसे में 2025 तक देश में प्रति आदमी मासिक डेटा खपत बढ़कर 25 जीबी होने का अनुमान है.
फ्रैंकफर्ट इंटरनेट एक्सचेंज संसार का अग्रणी इंटर कनेक्शन प्लेटफॉर्म है, जो 9 टेराबिट्स प्रति सेकंड (Tbs) पीक ट्रैफिक का प्रबंधन करता है. हिंदुस्तान में यह मुंबई, चेन्नई, दिल्ली व कोलकाता में एक्सचेंज संचालित करता है. कुंदर ने बताया कि डेटा की मांग हर दिन बढ़ रही है. उदाहरण के लिए, अप्रैल में एक प्रमुख टेल्को ने लगभग 4 लाख डोंगल बेचा है.