रिटायरमेंट के बाद के लिए हमारी तैयारी हो अच्छी, जानिए क्यो

रिटायरमेंट के बाद के लिए हमारी तैयारी हो अच्छी, जानिए क्यो

बचपन में हम सबने खरगोश व कछुए की कहानी सुनी है. इससे हम सीखते हैं कि धीमा लेकिन निरंतरशील रहने से जीत मिलती है. अपने कार्य में इस सिद्धांत को अपनाने की सीख दी जाती है. लेकिन क्या यह ज़िंदगी के सबसे अहम लक्ष्यों में से एक यानी रिटायरमेंट के मुद्दे में लागू होता है? उन्नत मेडिकल सुविधाओं की मदद से लगातार बढ़ती ज़िंदगी प्रत्याशा दर के कारण रिटायरमेंट जीवन 15-20 वर्ष या इससे ज्यादा लंबी हो सकती है.


इसलिए यह बहुत ज्यादा जरूरी हो जाता है कि रिटायरमेंट के बाद के लिए हमारे हमारी तैयारी अच्छी हो. सबसे महत्वपूर्ण है कि यह महंगाई दर को मात दे सके. ऐसी स्थिति में हमें कछुआ नहीं बल्कि तेज दौड़ने वाला खरगोश बनने की आवश्यकता है. इससे आप अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए ज्यादा जोखिम लेते हुए इक्विटी में निवेश कर पाएंगे. इसके उलट आप अगर फिक्स डिपॉजिट जैसे ढंग अपनाकर कछुए की रणनीति पर चलेंगे तो लक्ष्य से दूर तो रहेंगे ही साथ ही बुढ़ापे में गरीबी भी झेलनी पड़ सकती है.