अब DL के लिए नहीं देना पड़ेगा ड्राइविंग टेस्ट, बिना समय बर्बाद किए हुए पूरा होगा प्रोसेस

अब DL के लिए नहीं देना पड़ेगा ड्राइविंग टेस्ट, बिना समय बर्बाद किए हुए पूरा होगा प्रोसेस

कुछ समय पहले तक ड्राइविंग लाइसेंस के लिए आवेदन करने की प्रक्रिया काफी जटिल थी और इसके लिए आपको कई बार आरटीओ (रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस के चक्कर काटने पड़ते थे। इसमें काफी वक्त और पैसा भी बर्बाद होता था और ड्राइविंग टेस्ट के लिए अपनी बारी आने के लिए आवेदनकर्ता को कई बार हफ़्तों तक इन्तजार करना पड़ता था। हालांकि अब इस प्रक्रिया को आसान बना दिया गया है। दरअसल रोड ट्रांसपोर्ट मंत्रालय की तरफ से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए नये नियम को नोटिफाई किया गया है। नये नियम के मुताबिक़ DL के लिए आवेदन करने वाले लोगों को अब ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल में रजिस्ट्रेशन करवाना पड़ेगा और यहां पर ड्राइविंग टेस्ट पास करने के बाद आपको ड्राइविंग लाइसेंस जारी कर दिया जाएगा। अगले महीने से ये नया नियम जारी कर दिया जाएगा।

इस नये नियम के लागू होने से कई फायदे हैं जिनमें एक तो ये है कि कोविड-19 के इस दौर में संक्रमण से बचाव होगा और दूसरा ये है कि ड्राइविंग टेस्ट देने के लिए आपको आरटीओ के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे जिससे आपका समय बचेगा और आप एक निश्चित समय में ही ड्राइविंग लाइसेंस हासिल करने के हकदार हो जाएंगे।

माननी पड़ेगी ये ख़ास शर्त

इस नये नियम में ड्राइविंग लाइसेंस आवेदनकर्ताओं की सहूलियत का पूरा ध्यान रखा गया है। हालांकि सरकार ने इसमें एक ख़ास शर्त रखी है जिसके अनुसार जिस भी किसी ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल में आप रजिस्ट्रेशन करवाएंगे वो पूरी तरह से सरकारी मान्यता प्राप्त होना चाहिए और जब आप इस ड्राइविंग ट्रेनिंग स्कूल का ड्राइविंग टेस्ट पास कर लेंगे तो आपको बेहद ही आसानी से ड्राइविंग लाइसेंस दे दिया जाएगा और इसके लिए आपको बार-बार रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। मान्यता प्राप्त ड्राइवर ट्रेनिंग सेंटर में आपको कार चलाने के लिए जरूरी स्पेस, बायोमीट्रिक आईडी जैसी कई सुविधाएं मिलेंगी साथ ही आपकी ड्राइवर ट्रेनिंग को पूरी तरह से रिकॉर्ड किया जाएगा और इसके आधार पर ही आपको DL जारी किया जाएगा।


केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय की तरफ से ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर्स की मान्यता को लेकर भी कुछ नियम लाए जा सकते हैं। दरअसल इन नियमों का पालन करने पर ही ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर्स को मान्यता दी जाएगी। अगर DL ऐसे ही किसी मान्यता प्राप्त ट्रेनिंग सेंटर से ड्राइविंग सीख चुका होगा तब उसे ड्राइविंग टेस्ट दिए बगैर ही DL के लिए योग्य माना जाएगा। 


7वां वेतन आयोग : अब इस राज्य के कर्मचारियों का बढ़ा महंगाई भत्ता

7वां वेतन आयोग : अब इस राज्य के कर्मचारियों का बढ़ा महंगाई भत्ता

जम्मू-कश्मीर के सरकारी कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए खुशखबरी है। अब राज्य के सरकारी कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के लिए महंगाई भत्ता Dearness Allowance (DA) 1 जुलाई से मौजूदा 17 फीसद से बढ़ाकर 28 फीसद कर दिया गया है। सोमवार को इस बाबत फैसला लिया गया। मालूम हो कि हाल ही में झारखंड के सरकारी कर्मचारियों का महंगाई भत्ता (DA) 17 फीसद से बढ़ाकर 28 फीसद किया गाया था। इसके अलावा केंद्र सरकार ने भी अपने कर्मचारियों का महंगाई भत्ता बढ़ाया था, जिसके बाद राज्य भी DA बढ़ाने का ऐलान कर रहे हैं।

सरकार ने 14 जुलाई को केंद्रीय कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ता (DA) और महंगाई राहत (DR) 17 फीसद से बढ़ाकर 28 फीसद करने की घोषणा की थी। दरअसल, केंद्र के कर्मचारियों को लंबे समय से महंगाई भत्ता बढ़ने का इंतजार था। इसके लिए करीब डेढ़ साल इंतजार करना पड़ा।


जम्मू सरकार की ओर से बढ़ाये गए महंगाई भत्ते का फायदा राज्य सरकार के पेंशनभोगियों/पारिवारिक पेंशनभोगियों को मिलेगा, इसके लिए 1 जुलाई 2021 से महंगाई राहत की दरों में वृद्धि करने की भी सहमति दी गई है।

उल्लेखनीय है कि कर्नाटक सरकार ने भी हाल ही में महंगाई भत्ते की अतिरिक्त किश्तों को जारी करने का आदेश दिया था। राज्य सरकार ने मंगाई भत्ते को 11.25 फीसद से बढ़ाकर 21.5 फीसद किया था। यह जनवरी 2020 से जून 2021 की अवधि के लिए था। दरअसल, कोविड-19 महामारी की वजह से इन किश्तों को रोक कर रखा गया था।


उधर, राजस्थान सरकार ने भी 14 जुलाई को राज्य सरकार के कर्मचारियों और पेंशनभोगियों के महंगाई भत्ते को 17 फीसद से बढ़ाकर 28 फीसद करने का ऐलान किया था। इसके अलावा हरियाणा सरकार ने भी 24 जुलाई को महंगाई भत्ते की दर को 17 फीसद से बढ़ाकर 28 फीसद करने की घोषणा की थी।