Hardeep Singh Puri ने बोला यह बात, "अगर इस बार एअर इंडिया के निजीकरण की बोली रहेगी विफल"

Hardeep Singh Puri ने बोला यह बात, "अगर इस बार एअर इंडिया के निजीकरण की बोली रहेगी विफल"

 Civil Aviation Minister Hardeep Singh Puri  ने हाल ही में राज्यसभा में बोला कि अगर इस बार एअर इंडिया के निजीकरण की बोली ( air india privatization bid ) विफल रहेगी, तो एयरलाइन बंद हो जाएगी. उनके इस बयान के बाद एयरलाइन का मनोबल तो टूटा ही है, वहीं, पीक सीजन में ग्राहकों के एअर इंडिया ( Air India ) से दूरी बनाने की संभावना भी बढ़ गई है. एयरलाइन का प्रदर्शन पहले ही हर महीने बेकार होता जा रहा है. ( ) से भी कंपनी की तंगहाली देखी जा सकती है.

 

अगस्त के बाद से पिछले तीन महीनों में एअर इंडिया का ओटीपी बेंगलुरू, दिल्ली, हैदराबाद व मुंबई जैसे प्रमुख हवाई अड्डों पर 60 प्रतिशत से नीचे रहा है. इसकी तुलना में व्यक्तिगत एयरलाइंस एअर एशिया इंडिया , गो-एयर व इंडिगो का ओटीपी 80 प्रतिशत तक दर्ज किया गया है.

एअर इंडिया के एक वरिष्ठ ऑफिसर ने बताया कि एयरलाइन में सभी रैंक के कर्मचारी निराश हैं. उन्होंने बेकार प्रदर्शन के लिए कम विमान उपलब्धता को भी जिम्मेदार ठहराया. एअर इंडिया के कई कर्मचारियों ने बयान को गैर-जिम्मेदाराना करार देते हुए बोला कि इससे पीक ट्रैवल सीजन में एयरलाइन के ग्राहकों में कमी आएगी. वहीं, इसका भारी वित्तीय असर भी देखने को मिलेगा.

वायु निगम कर्मचारी संघ (एसीईयू) के महासचिव जेबी कादियान ने बोला कि बयान पूरी तरह से गैर जिम्मेदाराना है. हम इसकी निंदा करते हैं. कर्मचारियों का मनोबल पहले से ही टूट चुका है व इस तरह की हरकतें स्थिति को व भी बदतर कर देती हैं.

एयरलाइन के एक वरिष्ठ ऑफिसर ने आश्चर्य जाहीर किया कि अगर एयरलाइन अच्छा तरह से कार्य नहीं कर रही है व यह अपने आप बंद हो जाएगी तो मंत्री किसे धमकी देना चाहते हैं, कर्मचारियों को या निवेशकों को. उन्होंने बोला कि ईमानदारी से कहूं तो यह बहुत ज्यादा हतोत्साहित करने वाला है. बुधवार को राज्यसभा में मंत्री पुरी ने बोला था कि निजीकरण नहीं होने पर एअर इंडिया को बंद करना होगा.