16 दिसंबर से सभी बैंकों में 24 घंटे नेशनल इलेक्ट्रोनिक फंड ट्रांसफर की सुविघा हो जाएगी प्रारम्भ 

16 दिसंबर से सभी बैंकों में 24 घंटे नेशनल इलेक्ट्रोनिक फंड ट्रांसफर की सुविघा हो जाएगी प्रारम्भ 

आगामी 16 दिसंबर से सभी बैंकों में 24 घंटे नेशनल इलेक्ट्रोनिक फंड ट्रांसफर (एनईएफटी) की सुविघा प्रारम्भ हो जाएगी. इसके लिए बैंक ग्राहकों से किसी तरह का कोई शुल्क नहीं लिया जाएगा. एनईएफटी सुविधा अभी प्रातः काल आठ बजे से शाम सात बजे तक रहती है. महीने के पहले व तीसरे शनिवार को इसका वक्त प्रातः काल आठ बजे से दोपहर एक बजे तक रहता है. आरबीआई (आरबीआई) ने ऐसा करने का आदेश बैंकों को दिया है. 

डिजिटल बैंकिंग को बढ़ावा देना है

आरबीआई ने देश भर में डिजिटल बैंकिंग को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया है. इसके साथ ही भारतीय रिजर्व बैंक ने फास्टैग का भुगतान करने के लिए मोबाइल वॉलेट, सभी तरह के कार्ड्स व यूपीआई से इसे लिंक करने के लिए बोला है ताकि इसका प्रयोग पार्किंग, पेट्रोल पंप पर भी किया जा सके. 

60 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा डिजिटल ट्रांजेक्शन

आरबीआई ने बोला कि रिटेल डिजिटल ट्रांजेक्शन सालाना 60 प्रतिशत की दर से बढ़ रहा है. अक्तूबर 2018 से सितंबर 2019 के बीच यह औसतन 2846 करोड़ रुपये रहा है. इस दौरान कुल 302 लाख करोड़ रुपये के ट्रांजेक्शन हुए हैं. एनईएफटी व यूपीआई के जरिए 1126 करोड़ ट्रांजेक्शन हुए. इसमें यूपीआई की ग्रोथ रेट 263 प्रतिशत है. वहीं एनईएफटी का ग्रोथ रेट 20 प्रतिशत रहा. 

24 घंटे कर पाएंगे NEFT के जरिये लेन-देन

ग्राहक को दिसंबर से 24 घंटे एनईएफटी के जरिये लेन-देन की सुविधा मिलेगी. मौजूदा समय में ग्राहक इस सेवा का फायदा महीने के दूसरे व चौथे शनिवार को छोड़कर हर वर्किंग डे पर उठा रहे हैं. यह प्रातः काल आठ बजे से लेकर शाम 7:45 बजे तक उपलब्ध रहती है.

एक जुलाई से मुफ्त हुई थी NEFT सुविधा

छह जून को हुई भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति की समीक्षा मीटिंग में भारतीय रिजर्व बैंक ने आम जनता को बड़ा तोहफा देते हुए रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (आरटीजीएस) व नेशनल इलेक्ट्रिक फंड ट्रांसफर के जरिये होने वाला लेन-देन निःशुल्क कर दिया था. यह नियम एक जुलाई से लागू हो चुका था.

क्या है NEFT ?

NEFT का मतलब है नेशनल इलेक्ट्रॉनिक फंड्स ट्रांसफर. इंटरनेट के जरिये दो लाख रुपये तक के लेन-देन के लिए एनईएफटी का प्रयोग किया जाता है. इसके जरिये किसी भी शाखा के किसी भी बैंक खाते से किसी भी शाखा के बैंक खाते को पैसा भेजा जा सकता है.

बस इकलौती शर्त ये है कि भेजने वाले व पैसा पाने वाले, दोनों के पास इंटरनेट बैंकिंग सेवा का होना महत्वपूर्ण है. अगर दोनों खाते एक ही बैंक के हैं तो सामान्य स्थिति में कुछ सेकेंड्स के अंदर पैसा ट्रांसफर होने कि सम्भावना है.