कांग्रेस पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा व केंद्रीय दूर संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद में छिड़ गई, ये हैं कारण

कांग्रेस पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा व केंद्रीय दूर संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद में छिड़ गई,  ये हैं कारण

सभी व्यक्तिगत कंपनियों की ओर से फोन व इंटरनेट चार्ज मंहगा किए जाने को लेकर सोमवार को कांग्रेस पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा व केंद्रीय दूर संचार मंत्री रविशंकर प्रसाद में छिड़ गई.

 प्रियंका ने ट्वीट कर आरोप लगाया कि धनी दोस्तों को लाभ पहुंचाने के लिए बीजेपी सरकार जनता की जेब काट रही है व इसीलिए कंपनियों के लिए काल व डेटा महंगा करने का रास्ता खोल दिया. इसके बाद एक के बाद एक कई ट्वीट के जरिए पलटवार करते हुए रविशंकर ने याद दिलाया कि महंगे काल का जमाना कांग्रेस पार्टी का था जब 2014 में 1जीबी डेटा के लिए 269 रुपये देने पड़ते थे, अब उसके लिए 12 रुपये से भी कम देने पड़ते हैं.

दरअसल कंपनियों की ओर से जब से चार्ज बढ़ाने का निर्णय हुआ है कि कांग्रेस पार्टी हमलावर है. सोमवार की प्रातः काल प्रियंका ने ट्वीट किया- 'भाजपा पिछले छह वर्षों से मोबाइल इंटरनेट व काल सस्ता करने की डींग हांकती थी. अब हवा निकल गई है। .'

 

रविशंकर ने इसका आंकड़ों के साथ जवाब दिया. उन्होंने कहा-मोबाइल व्यवस्था को लचर बनाने में करप्शन से लिप्त कांग्रेस पार्टी का हाथ है. नरेन्द्र मोदी सरकार में इसे दुरुस्त किया गया व सरकारी कंपनी एमटीएनएल व भारत संचार निगम लिमिटेड को भी फायदेमंद बनाने पर कार्य हो रहा है. रविशंकर ने लंदन की एक कंपनी की रिपोर्ट का हवाला देते हुए बोला कि हिंदुस्तान में प्रति जीबी डेटा अभी भी सारे दुनिया में सबसे कम है.

इस डेटा के अनुसार हिंदुस्तान में प्रति जीबी डेटा 0.26 डालर है जबकि अमेरिका में 12.2 डालर व स्विटजरलैंड में 20.22 डालर है. दूर संचार मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार कंपनियों की ओर से दर बढ़ाने के बावजूद हिंदुस्तान में यह प्रति जीबी 16 रुपये से ज्यादा महंगा नहीं होगा.