पत्नी आरोपियों के द्वारा डेढ़ महीने तक किए गए गैंगरेप से हो गई गर्भवती

पत्नी आरोपियों के द्वारा डेढ़ महीने तक किए गए गैंगरेप से हो गई गर्भवती

राजस्थान के अलवर जिले का बहरोड़ थाना एकबार फिर चर्चा में है. यहां डेढ़ महीने पहले एक पति ने अपनी पत्नी के लापता होने की शिकायत दर्ज कराई थी, लेकिन पुलिस ने उसकी पत्नी को ढूंढना मुनासिब नहीं समझा. बाद में पता चला कि उसकी पत्नी को 4 लोगों ने बंधक बना लिया था और उसके साथ पिछले डेढ़ महीने से रेप कर रहे थे. उसकी पत्नी आरोपियों के द्वारा डेढ़ महीने तक किए गए गैंगरेप से गर्भवती हो गई. महिला अपनी जान बचाकर जैसे-तैसे घर पहुंची तो घटना के बारे में परिजनों को जानकारी मिली. इसके बाद परिजनों ने मामला दर्ज करवाया.

जानकारी के मुताबिक, चारों आरोपियों ने महिला को नशीला पदार्थ पिलाकर बंधक बना लिया था और उसके साथ पिछले डेढ़ महीने से गैंगरेप कर रहे थे. 20 जुलाई को 4 आरोपी महिला के घर आए थे और महिला को नशीला पदार्थ देने के बाद अपने साथ ले गए थे. यहां उन्होंने घर में रखे गहने और 6 हजार रुपए भी ले लिए थे.

डेढ़ महीने तक बंधक बनाकर रिवॉल्वर की नोक पर उसके साथ 4 आरोपियों ने लगातार गैंगरेप किया. इसके बाद महिला गर्भवती हो गई. पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है और पीड़िता का मेडिकल टेस्ट करवा लिया गया है.

पुलिस थाना इंचार्ज एसआई रामकिशोर चौधरी ने बताया कि जटगांवडा निवासी एक महिला ने मामला दर्ज कराया कि वह 20 जुलाई को जब उसका पति काम पर गया हुआ था और वह घर पर अकेली थी. इस दौरान साढ़े दस बजे गुंता शाहपुर निवासी अनिल कुमार, दयानंद, रामावतार और माजरा निवासी रोहताश उसके घर पर आए और नशीला पदार्थ खिलाकर जेवरात, 6 हजार रुपए नकद और कागजात के साथ उसे गाड़ी में बैठाकर दयानंद के मकान में ले गए और रात्रि में उसके साथ बारी-बारी से बलात्कार किया.

पुलिस के मुताबिक, उसके बाद दूसरे दिन अन्य जगह पर ले जाकर उसके साथ दोबारा से बलात्कार किया. महिला ने बताया कि रोजाना नशीला पदार्थ खिलाकर उसके साथ चारों के द्वारा बार-बार इच्छा के विरुद्ध बंधक बनाकर दुष्कर्म किया जाता था. लोगों ने कमरे में रिवॉल्वर रख रखी थी. विरोध करने पर मुझे जान से मारने की धमकी दी जाती थी. इन सभी लोगों ने उसके सोने चांदी के जेवरात और 6 हजार रुपए रख लिए.

पुलिस ने बताया कि डेढ़ महीने बाद मौका पाकर वह उनके कब्जे से भागने में कामयाब हुई. इसके बाद वह घर पहुंची और इसकी रिपोर्ट थाने में दी.