रोजमर्रा के इस्तेमाल में आने वाली इन चीजों में पाया जाता है टॉयलेट सीट से जादा बैक्टीरिया

रोजमर्रा के इस्तेमाल में आने वाली इन चीजों में पाया जाता है टॉयलेट सीट से जादा बैक्टीरिया

अगर आप सोचते हैं कि टॉयलेट सीट सबसे गंदी होती है और उसमें कीटाणुओं की भरमार होती है, तो जरा ठहर जाइए, क्योंकि आपके हाथ में हमेशा रहने वाला स्मार्टफोन इस मुकाबले में टॉयलेट सीट से कहीं आगे है. काम करने की जगह, यानी दफ्तर, एक ऐसी जगह है जहां व्यक्ति जीवन का सबसे ज्यादा समय बिताता है. ईमेल भेजने से लेकर रिपोर्ट लिखने में लगा होता है. शिड्यूल की मीटिंग में उपस्थित रहने से लेकर फोन पर व्यस्त रहता है.

आपका कीबोर्ड (काले या सफेद रंग का अंग्रेजी अक्षरों में लिखा हुआ, जिससे टाइप किया जाता है), हेडफोन (कान में गाना सुनने या बात करने के लिए इस्तेमाल होने वाला यंत्र), माउस (कंप्यूटर पर एक जगह से दूसरी जगह पर ने के लिए इस्तेमाल होने वाला), ट्रैक पैड, आपका ऑफिस आईडी कार्ड और मोबाइल फोन, ये सभी गंदे बैक्टीरिया से भरे होते हैं. शोध से ये बात सामने आई है. ये ऐसे बैक्टीरिया हैं जो पेट और स्वास्थ्य के लिए खतरनाक साबित हैं. एक ऐसा बग (एक प्रकार का बैक्टीरिया) जो पेट में पैदा होता है. इसका नाम 'क्वॉर्टी' है. कई बार काम में मसरूफ़ रहने के कारण खाना अपनी सीट पर बैठकर खाते हैं. जोकि आप एक बहुत बड़ी गलती करते हैं. हाल ही में एक ब्रिटिश कंपनी ने काम करने की जगह यानी ऑफिस में हाइजीन को लेकर एक शोध किया है. जिसमें उन्होंने पाया कि एक टॉयलेट से भी ज्यादा गंदा लोगों का काम करने वाला कीबोर्ड होता है. इस पर कई ऐसे गंदे बैक्टीरिया लगे होते हैं जो टॉयलेट सीट पर भी नहीं मिले हैं.

लोग जब सीट पर बैठकर खाना खाते हैं तो उसके कुछ रेशे डेस्क पर गिर जाते हैं. कुछ अगर पी रहे हैं तो वो सीट पर छलक जाता है. यहां तक कि अगर पैकेट फूड ले रहे हैं तो उसका रैपर भी कई लोग वहीं छोड़ देते हैं. ये सभी चीजें ऐसे बैक्टीरिया, गंदगी को अपनी ओर आकर्षित करते हैं जो सेहत के लिए खराब साबित हो सकते हैं. रॉयल सोसाइटी ऑफ कैमिस्ट्री के हवाले से ये बात सामने आई है.

रोजमर्रा के इस्तेमाल में आने वाली चीजें बैक्टीरिया से भरी होती हैं. हम सभी ये जानते हैं कि एक ही चीज को कितने लोग इस्तेमाल करते हैं. ज्यादातर, हाथ से रोगाणु और कीटाणु हमारे तक आते हैं. अगर फ्लू या जुखाम हो और छींक दें तो ये कीबोर्ड में मौजूद कीज़ के किनारे में इकट्ठे हो जाते हैं. ये पनपकर सात हजार के करीब ऐसे माइक्रोऑर्गेनिज्म हो जाते हैं जो सेहत के लिए खतरनाक साबित हो सकते हैं. 2016 में सीबीटी नग्गेट्स द्वारा किए गए शोध से सामने आया है कि ऑफिस में मौजूद ज्यादातर चीजों में बैक्टीरिया पैदा होते हैं. एक खिलौने से भी ज्यादा इन चीजों पर गंदे बैक्टीरिया पाए गए हैं. जिसमें लोगों द्वारा हाइजीन का ध्यान न रखना एक बहुत बड़ा कारण था. बाथरूम के बाद हाथ न धोना. किसी भी चीज को छूने के बाद हाथ सैनिटाइज़ न करना, जैसी चीजें शामिल थीं जो हाथ में पनपने वाले गंदे बैक्टीरिया को बढ़वा देती हैं. टॉयलेट सीट से नौ हजार गुना ज्यादा स्मार्टफोन पर गंदे बैक्टीरिया पाए गए हैं. ये एक ऐसी चीज है जो हमारे साथ हर कहीं जाती है. फोन को हम कई ऐसी जगह रखते और उठाते हैं जो हमेशा सैनिटाइज़ नहीं होती हैं. जिसके कारण माइक्रोऑर्गेनिज्म पनपते हैं.