जिस खिलाड़ी ने इंग्लैंड को बनाया चैंपियन, उसके पिता को ही सुननी पड़ रही गालियां...

जिस खिलाड़ी ने इंग्लैंड को बनाया चैंपियन, उसके पिता को ही सुननी पड़ रही गालियां...

न्यूजीलैंड को रोमांचक मुकाबले में मात देकर मेजबान इंग्लैंड ने पहली बार वर्ल्ड कप अपने नाम कर लिया। सुपर ओवर में टाई रहे फाइनल मुकाबले में बाउंड्री के आधार पर विजेता की घोषणा की गई। न्यूजीलैंड के दिए 241 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए इंग्लैंड की टीम लड़खड़ा गई थी व उस पर पराजय का संकट मंडराने लगा था। ऐसे में उनके स्‍टार खिलाड़ी बेन स्टोक्स ने प्रयत्न कर निर्धारित ओवर में मैच बराबरी पर ला दिया।

स्टोक्स ने नाबाद 84 रन की पारी खेली थी। इसके बाद सुपर ओवर में भी उन्हाेंने शानदार बल्लेबाजी की। स्टोक्स इंग्लिश टीम व ट्रॉफी के बीच का पुल बने व टीम को अकेले दम पर वहां तक पहुंचा दिया। न्यूजीलैंड को दिल तोड़ने व कभी ना भूलने वाली पराजय मिली। जिससे क्रिकेट जगत में अधिकांश फैंस दुखी हैं।

खास बात यह है कि जिस खिलाड़ी ने इंग्लैंड को चैंपियन बनाया, उसके सामने उसके अपने ही देश की टीम मायूस खड़ी ‌थी। न्यूजीलैंड के जन्में बेन स्टोक्स आज भले ही इंग्लैंड में रहने लगे हो, लेकिन उनका परिवार न्यूजीलैंड में ही रह रहा है व जब वह अपनी टीम को ट्रॉफी के करीब ला रहे थे, तब उनका परिवार अपने देश के साथ था, लेकिन इसके बावजूद स्टोक्स के पिता को गालियां पड़ रही है।

कोचिंग कॉन्ट्रेक्‍ट के लिए आए थे इंग्लैड

न्यूजीलैंड की वेबसाइट 'स्टफ' से बात करते हुए स्टाेक्स के पिता ने बोला कि न्यूजीलैंड में जितने भी पिता हैं, उनमें से सबसे ज्यादा नफरत उनसे की जा रही होगी। स्टोक्स के पिता ने बोला हालांकि वह‌ न्यूजीलैंड की पराजय से दुखी हैं। स्टोक्स जब 12 वर्ष के थे, तब उनके पिता गेरार्ड इंग्लैंड में मिली रग्बी लीग में कोचिंग कॉन्ट्रेक्ट के लिए परिवार सहित इंग्लैंड आ गए थे।

स्‍टोक्‍स के पिता गेरार्ड को जब इंग्‍लैंड में रग्‍बी लीग में कोचिंग का कॉन्‍ट्रेक्‍ट मिला तो पूरा परिवार न्‍यूजीलैंड छोड़कर आ गया। उस समय बेन स्‍टोक्‍स की आयु 12 वर्ष थी। अब स्टोक्स तो यहां पर बस गए, लेकिन उनका परिवार वापस अपने घर लौट गया था।