होटल मैनेजर ने कहा पुलिस का निर्देश है, नहीं दे सकते रूम

होटल मैनेजर ने कहा पुलिस का निर्देश है, नहीं दे सकते रूम

राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक मुस्लिम व्यक्ति और हिन्दू महिला को OYO के एक होटल द्वारा रूम देने से इनकार करने का मामला सामने आया है. OYO के तहत रजिस्टर्ड सिल्वरकी होटल ने सिर्फ इसलिए दोनों को रूम देने से इनकार कर दिया क्योंकि दोनों अलग-अलग धर्म से संबंध रखते थे.

Image result for हिन्दू-मुस्लिम कपल को OYO के होटल

दरअसल, उदयपुर के 31 वर्षीय सहायक प्रोफेसर, शनिवार को जयपुर पहुंचे और OYO सिल्वरकी होटल में चेक इन किया. इसके बाद उनकी महिला मित्र बाद में दिन में वहां आना था. लेकिन होटल द्वारा दोनों को रूम शेयर करने की इजाजत देने से इनकार कर दिया गया.

होटल ने प्रोफेसर से क्या कहा?

प्रोफेसर ने इंडिया टुडे से बताया, 'मैंने गोईबिबो द्वारा कपल फ्रेंडली होटल सर्च किया और जयपुर के टोंक फाटक पर स्थित सिल्वरकी होटल को यहां ठहरने के लिए बुक किया. इसके बाद मैं वहां थोड़ा पहले ही पहुंच गया जबकि मेरी महिला मित्र को वहां शाम को आना था. जल्दी पहुंचने के बाद मैं फ्रेश होने चला गया और जब आया तो होटल वालों ने पूछा कि आपका दूसरा दोस्त कहां है... इसके बाद मैंने उन्हें नाम बताया. उन्होंने कहा, आप एक अलग धर्म से हैं. इसीलिए, हम आपको रुकने की अनुमति नहीं दे सकते. मैंने कहा, यहां तो सभी प्रकार की चीजें आपने अपने टर्म -कंडिशन में शामिल किया हुआ है जिसमें अविवाहित जोड़े भी शामिल है. इसके बाद उन्होंने कहा, यदि आप अविवाहित होते और एक ही धर्म के होते, तो कोई समस्या नहीं होती. लेकिन आप अविवाहित हैं और विभिन्न धर्म के हैं, इसीलिए समस्या है. इसलिए हम आपको रूम नहीं दे सकते.'

लिखित में मांगने पर होटल ने कहा- नहीं दे सकते

जब प्रोफेसर ने लिखित में इसका प्रमाण मांगा, तो होटल प्रबंधन कोई भी प्रमाण उपलब्ध नहीं करा सका. हालांकि, उन्हें बताया गया कि ऐसा करने के लिए उनके पास पुलिस के निर्देश थे.

अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए प्रोफेसर ने कहा, 'मैंने कहा, अगर इस तरह का नियम कहीं भी लिखा गया है तो आप इसे लिखित रूप में मुझे दिखाएं. उन्होंने कहा, नहीं साहब, यह पुलिस का मामला है और हम आपको अनुमति नहीं दे सकते. मैंने कहा, जो भी है, मैं सभी नियमों का पालन करता हूं, मैं एक कानून का पालन करने वाला नागरिक हूं और मैं चीजों को समझने के लिए काफी समझदार हूं. मुझे कोई समस्या नहीं है और यह भी जानना है कि स्थिति से कैसे निपटना है. आप केवल मुझे लिखित रूप में दे दीजिए, बस इतना ही करना है आपको और कुछ नहीं.'