जर्मन में गैंगरेप का हैरान करने वाला मामला, 5 बच्चों ने किया गैंगरेप

जर्मन में गैंगरेप का हैरान करने वाला मामला, 5 बच्चों ने किया गैंगरेप

जर्मन में गैंगरेप का हैरान करने वाला भयावह मामला सामने आया है । मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक यहां 5 बच्चों ने एक लड़की से देर शाम एक पार्क में गैंगरेप किया। संदिग्ध बच्चों में दो की उम्र सिर्फ 12 साल है जिसकी वजह से उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमा नहीं चलाया जा सकता जबकि तीन संदिग्ध 13 व 14 साल के हैं। हैरान करने वाली बात ये भी है कि बच्चों ने गैंगरेप का वीडियो भी बनाया।

Image result for 5 बच्चों ने किया गैंगरेप

जर्मनी के मुलहेम में शुक्रवार की देर शाम पीड़ित लड़की बरामद की गई। बेशक पुलिस ने घटना से जुड़ी तमाम जानकारियां शेयर नहीं की हैं, लेकिन स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट में घटना की भयावहता सामने आई है। इस केस को लेकर जर्मनी में आपराधिक मुकदमे के लिए उम्र सीमा घटाने की मांग भी तेज हो गई । सभी संदिग्ध बच्चों को स्कूल से सस्पेंड कर दिया गया है। आऱोपियों में से एक बच्चे को जज के सामने पेश किया गया। बताया जाता है कि पीड़ित लड़की मानसिक रूप से विकलांग थी ।

जर्मन में मौजूदा कानून के मुताबिक, 12 साल के दो संदिग्ध बच्चों पर आपराधिक मुकदमा नहीं चलाया जाएगा, लेकिन उनके व्यवहार को लेकर यूथ वेलफेयर ऑफिस काम करेगा। आपराधिक मुकदमे के लिए जर्मनी में न्यूनतम उम्र सीमा 14 है। हालांकि, इंग्लैंड और उत्तरी आयरलैंड में कम से कम 10 साल की उम्र के बच्चों पर क्रिमिनल केस चलाया जा सकता है। सभी संदिग्ध बच्चे मूल रूप से बुल्गारिया के रहने वाले बताए जाते हैं।मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, बच्चे पीड़ित लड़की को झाड़ियों में ले गए और अपने-अपने फोन से वीडियो भी रेप के वीडियो बनाए।

कुत्तों के लगातार भौंकने के बाद स्थानीय लोगों ने पुलिस को बुलाया जबकि एक व्यक्ति के बाहर आने पर पीड़ित महिला दिखाई दी। संदिग्ध तुरंत वहां से भाग गए। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि लड़की के साथ काफी अधिक हिंसा की गई। पीड़ित महिला को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। वह संदिग्ध बच्चों के बारे में जानकारी देने में सफल रही जिसके बाद पुलिस बच्चों तक पहुंच गई। सुरक्षाबलों से जुड़े एक अधिकारी ने कहा कि हम सालों से आपराधिक जिम्मेदारी तय करने के लिए उम्र सीमा घटाए जाने की मांग करते रहे हैं।हालांकि, जर्मनी के एसोसिएशन ऑफ जज की प्रमुख जेन्स ग्निसा ने कहा कि अधिक सजा से अपराध कम होने का समीकरण युवाओं पर काम नहीं करता है।