दूध मंडी हटाने के विरोध में धरने पर बैठे तेजस्वी

दूध मंडी हटाने के विरोध में धरने पर बैठे तेजस्वी

पटना जंक्शन के मुख्य द्वार के पास स्थित दूध मंडी को प्रशासन द्वारा हटाने से नाराज राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के बेटे व बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव धरने पर बैठ गए। जबकि उनका साथ देने के लिए वहां तेज प्रताप यादव भी आ गए। दोनों भाई काफी समय के बाद एक साथ दिखाई दिए थे। इस बीच, तेज प्रताप ने एक ट्वीट कर अपने राजनीतिक विरोधियों को चेतावनी दी।

Image result for दूध मंडी हटाने के विरोध में धरने पर बैठे तेजस्वी

तेज प्रताप यादव ने ट्वीट किया, 'अब सारे विरोधियों हो जाओ होशियार .. क्योंकि इस महाभारत के युद्ध (2020) मे अब आ गया है कृष्ण का अर्जुन।' दरअसल, लोकसभा चुनावों के बाद से तेजस्वी यादव और तेज प्रताप दोनों ही राजनीति में सक्रिय नहीं थे। वहीं, बुधवार को तेजस्वी यादव ने पटना में धरना देकर तमाम कयासों पर विराम लगा दिया। इस धरने के दौरान राजद के कई नेता मौजूद थे।

तेजस्वी यादव
तेजस्वी ने दिया नीतीश सरकार के खिलाफ धरना

भारी बारिश के बीच तेजस्वी पटना जंक्शन के पास दूध मार्केट पहुंचे थे और वहां धरने पर बैठे रहे। दूध मंडी को हटाए जाने का विरोध करते हुए तेजस्वी ने नीतीश कुमार सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि सरकार स्मार्ट सिटी के नाम पर गरीबों को तंग कर रही है। दूध बेचने वाले किसानों को तंग कर रही है। सरकार लालू यादव द्वारा किए गए कार्यों को मिटाना चाहती है। दूसरी तरफ, प्रशासन का कहना था कि दूध मंडी सरकारी जमीन पर जमीन थी।

तेजस्वी ने कहा कि दूध मंडी लालू यादव ने बनवाया था, यहां दूध बेचने के साथ दुग्ध उत्पादकों की सुविधा के लिए कई व्यवस्थाएं की गई थीं। उन्होंने कहा कि मौके पर मौजूद प्रशासन के अधिकारियों से दूध व्यवसायियों ने मंडी तोड़ने के आदेश की कॉपी मांगी लेकिन प्रशासन ये नहीं दिखा सका। तेजस्वी ने आरोप लगाया कि बंदूक की नोंक पर जबरन एक मंदर सहित दूध मंडी को तोड़ा गया। नीतीश सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए तेजस्वी ने कहा कि यदि दूध वालों को पुनर्स्थापित नहीं किया गया तो बड़ा आंदोलन होगा। आरजेडी अपने खून का कतरा-कतरा बहा देगी, लेकिन चुप नहीं रहेगी।