एक फिर दुनियाभर की अर्थव्‍यवस्‍थाएं दे रही मंदी का संकेत

एक फिर दुनियाभर की अर्थव्‍यवस्‍थाएं दे रही मंदी का संकेत

आप सबको सन् 2008 की आर्थिक मंदी तो याद ही होगी जब हजारों लोग बेरोजगार हो गए थे और करोड़ों का नुकसान हुआ था। एक फिर दुनियाभर की अर्थव्‍यवस्‍थाएं मंदी का संकेत दे रही हैं और इसका अगला चरण वैश्विवक मंदी होगा। मॉर्गन स्‍टेनली की रिर्पोट के अनुसार आने वाले अगले 9 महीने में एक बार फिर आर्थिक मंदी आने के संकेत मिल रहे हैं। इस बार मंदी के कौन-कौन से कारण वो आपको यहां पर पता चलेगा।

Image result for 9 महीनों में आ सकती है 2008 जैसी आर्थिक मंदी

यील्‍ड का का उल्‍टा होना प्रमुख कारण

दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं अमेरिका और चीन के बीच व्यापारिक तनाव दुनिया को संदेह की ओर ढ़केलने वाला मुख्य कारक है। मंदी के अन्य विश्वसनीय संकेतक भी सामने आ रहे हैं, जिसमें यील्‍ड का उल्टा होना है। मंदी से पहले भी बांड यील्‍ड के ग्राफ का कर्व उलटा हुआ था और यह अब लगभग वैसा ही हो रहा है जैसा कि 2008 के वित्तीय संकटों से पहले देखने को मिला था।

अमेरिका और चीन के बीच ट्रेड वार भी वजह

मॉर्गन स्टेनली का मानना ​​है कि अगर अमेरिका के जरिये व्यापार युद्ध फिर से भड़कता है और वह चीन से सभी सामानों पर शुल्क बढ़ाकर 25 प्रतिशत कर देता है, तो दुनिया में तीन तिमाहियों में ही मंदी आ जाएगी। फिलहाल भारत में मंदी के उतने लक्षण नहीं दिख रहे हैं, लेकिन वाहन उद्योग जैसे कुछ क्षेत्र खतरनाक रूप से मंदी के करीब हैं। भारत की अर्थव्यवस्था में पिछली तीन तिमाहियों में गिरावट ही रही है और विकास का पूर्वानुमान भी नहीं बढ़ रहा है। औद्योगिक उत्पादन और कोर इन्फ्रास्ट्रक्चर दोनों क्षेत्रों में गिरावट देखी गई है।

इन देशों पर प्रमुख रुप से है मंदी का खतरा

इसके अलावा ब्रिटेन की अर्थव्यवस्था और अन्य यूरोपीय अर्थव्यवस्थाओं पर मंदी का एक बड़ा खतरा मंडरा रहा है। ब्रेक्जिट के कारण राजनीतिक अनिश्चितता की वजह से वहाँ दूसरी तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद सिकुड़ गया है, जिससे मंदी की आशंका बढ़ गई है।