मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने बदला अपना दृष्टिकोण

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने बदला अपना दृष्टिकोण

भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज की ओर से एक बुरी समाचार है. मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने हिंदुस्तान की क्रेडिट रेटिंग को स्टेबल से नेगेटिव करने के लिए दृष्टिकोण बदल दिया है. भारतीय अर्थव्यवस्था में सुस्ती के बीच मूडीज ने यह बड़ा अनुमान जाहीर किया है. मूडीज ने BAA2 रेटिंग की पुष्टि की है व उसका मानना है कि इकोनॉमी में सुस्ती का जोखिम बढ़ता जा रहा है.Image result for International credit rating agency Moody's downgrades Hindustan rating, know why

मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस के अनुसार, आर्थिक विकास पहले की तुलना में कम रहेगा. साथ ही एजेंसी ने बोला कि भविष्य में लंबे समय तक आर्थिक मंदी की अटकलें बनी रहेंगी व लोन बढ़ेगा. बता दें कि एजेंसी ने हिंदुस्तान के लिए Baa2 विदेशी मुद्रा व स्थानीय-मुद्रा दीर्घकालिक जारीकर्ता रेटिंग की पुष्टि की है.

भारत की रेटिंग में यह गिरावट रेटिंग एजेंसियों द्वारा भारतीय अर्थव्यवस्था की ग्रोथ के अनुमान में कमी करने के बाद आई है. साथ ही यह ऐसा समय है जब भारतीय अर्थव्यवस्था निर्बल डिमांड के कारण बुरे दौर से गुजर रही है.

हालांकि, सरकार अभी भी कह रही है कि हिंदुस्तान संसार में तेजी से विकास कर रही बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में शुमार है. बताते चलें कि नरेन्द्र मोदी सरकार का लक्ष्य वर्ष 2025 तक हिंदुस्तान की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था बनाना है. वहीं, दूसरी तरफ रेटिंग एजेंसियां हिंदुस्तान के लिए जीडीपी ग्रोथ अनुमान को लगातार कम कर रही हैं, जो कि चिंता की बात है.

यहां बता दें कि पिछले महीने रेटिंग एजेंसी मूडीज ने हिंदुस्तान के लिए वित्त साल 2019-20 की ग्रोथ रेट के अनुमान को घटाकर 5.8 फीसद कर दिया है. इससे पहले यह 6.2 फीसद था. इसके अतिरिक्त एजेंसी ने वित्त साल 2020-21 के लिए ग्रोथ रेट का अनुमान 6.6 फीसद बताया था.