आपके कैंसर का कारण बन सकती है ज़्यादा गर्म चाय

आपके कैंसर का कारण बन सकती है ज़्यादा गर्म चाय

हम आपने शरीर के बहरी अंगों पर तो बहुत ध्यान देते हैं पर ये भूल जाते हैं की हमारे अंदुरनी अंग बाहरी अंगों से ज़्यादा संवेदनशील होते है| हमारे शरीर के अंदरूनी अंगों पर बहुत ध्यान देते की ज़रूरत होती है क्यूंकी वो इतने नाज़ुक होते हैं कि ज़रा सी लापरवाही भी उन्हें बड़ा नुक्सान पहुंचा सकती है| ये बात खासतौर से उन लोगों के लिए है जो लोग अधिक गर्म चाय या कॉफ़ी पीने के शौकीन होते हैं| आइये जानते हैं ज़्यादा गर्म चाय पीने से कौन सा कैंसर हो सकता है|

अमेरिका में की गयी एक रिसर्च में ये सामने आया है की ज़्यादा गर्म चाय या कॉफ़ी पीने से एसोफैगल कैंसर होने खतरा होता है| डॉक्टरों के अनुसार यह कैंसर दुनिया में सबसे ज़्यादा होने वाले कैंसरों की सूची में आठवें स्थान पर है और भारत में यह कैंसर छटवें स्थान पर है|

दी अमेरिकन कैंसर सोसाइटी के अनुसार जो लोग बहुत अधिक गर्म चाय कॉफ़ी या अन्य पेय पदार्थों का लगातार सेवन करते हैं उनके एसोफैगस पर बुरा प्रभाव पड़ता है इससे उनमे एसोफैगल कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है| डॉक्टरों के मुताबिक किसी भी गर्म पेय पदार्थ को 75 डिग्री सेल्सियस तक का होने पर उसका सेवन नहीं करना चाहिए और उसे कम से कम 3 या 4 मिनट ठंडा करने के बाद ही पीना चाहिए|

ज़्यादा गर्म पेय पदार्थ पीने से हमारी उन नलियों पर बुरा प्रभाव पड़ता है या उनमे डैमेज आने लगता है जिनसे होकर कोई भी खाद्य पदार्थ हमारे पेट तक पहुंचता है|

ज़्यादा गर्म पानी, चाय,कॉफ़ी या अन्य पदार्थ का लगातार सेवन करने से हमारे गले में जलन भी हो सकती है और उसी के बाद धीरे धीरे ये समस्या बढ़ने से एसोफैगल कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है| अगली बार से आप जब भी गर्म पदार्थ का सेवन करें तो यह ध्यान रखें की आप उसे 60 से 70 डिग्री सेल्सियस से नीचे के तापमान पर ही पियें|