2019 के सबसे निचले स्तर पर आया रुपया

डालर के मुकाबले रुपये में गिरावट का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक डॉलर के मुकाबले रुपया आज 72 रुपये पार कर गया। 2019 में यह पहली बार हुआ है जब एक डॉलर का मूल्य 72 रुपये पार चला गया है। आज शुरुआती कारोबार में रुपया 22 पैसे गिरा और 72.03 रुपये प्रति डॉलर पर आ गया। यह डॉलर के मुकाबले रुपये का 9 महीने का निचला स्तर है। जानकारों के मुताबिक घरेलू शेयर बाजारों में गिरावट तथा विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) की जारी निकासी के कारण भारतीय रुपये में यह गिरावट देखने को मिली है। शुरुआती आंकड़ों के अनुसार, FPI ने गुरुवार को घरेलू बाजार से करीब 900 करोड़ रुपये की शुद्ध निकासी की थी। कारोबारियो के अनुसार, विदेशी बाजारों में डॉलर में तेजी का भी रुपये पर काफी दबाव रहा है। गौरतलब है कि चीन की मुद्रा युआन भी 11 सालों के निचले स्तर पर आ गई हैं, इसका भी रुपये पर प्रभाव पड़ा है।

आज एक डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया 71.91 रुपये पर खुला था। गौरतलब है कि गुरुवार को भारतीय रुपया एक डॉलर के मुकाबले 71.81 रुपये पर बंद हुआ था। जानकारों का कहना है कि चीन की मुद्रा युआन में अचानक आई गिरावट से रुपया सहित उभरती अर्थव्यवस्था की तमाम मुद्राओं में उतार चढ़ाव बढ़ गया। अंतरबैंक विदेशीमुद्रा विनिमय बाजार में रुपया कमजोरी के साथ 71.65 रुपये पर कमजोर खुला और कारोबार के दौरान यह 71.79 रुपये के दिन के निचले स्तर को छू गया।

कारोबार के अंत में रुपया 26 पैसे की पर्याप्त गिरावट दर्शाता 71.81 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ। यह 14 दिसंबर 2018 के बाद रुपये का सबसे निचला बंद स्तर है। तब रुपये की विनिमय दर 71.90 रुपये तक गिर गई थी। बुधवार को रुपया 71.55 डॉलर प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। बाजार सूत्रों के अनुसार, शेयर बाजार के प्राथमिक आंकड़ों के पता चलता है कि बृहस्पतिवार को विदेशी निवेशकों ने भारतीय शेयर बाजार से 902.99 करोड़ रुपये की निकासी की।