13 वर्षीय किशोरी के साथ पिछले एक वर्ष से पांच लोग कर रहे थे बलात्कार

13 वर्षीय किशोरी के साथ पिछले एक वर्ष से पांच लोग कर रहे थे बलात्कार

एक गांव में अनुसूचित जाति की 13 वर्षीय किशोरी के साथ सामूहिक दुराचार का मुद्दा प्रकाश में आया है. जिसमें पीड़िता के सगे भाई भी शामिल हैं. किशोरी के साथ पिछले एक वर्ष से पांच लोग बलात्कार कर रहे थे.

पेट दर्द होने पर किशोरी को महिला अस्पताल लाया गया तो उसका सात माह का गर्भ निकला. प्रसव पीड़ा के दौरान उसका गर्भपात हो गया. राजस्व पुलिस ने किशोरी के पिता की तहरीर पर पांच लोगों के विरूद्ध 376 आईपीसी व 4:6 पोक्सो एक्ट के तहत मुकदमा पंजीकृत कर लिया है.

पेट दर्द होने पर किशोरी को परिजन गत दिवस महिला अस्पताल में लाए थे. अल्ट्रासाउंड जाँच में सात महीने का गर्भ होने की जानकारी मिलने पर परिजनों ने उससे पूछताछ की.किशोरी ने बताया कि पांच लोग पिछले एक वर्ष से उसके साथ दुराचार कर रहे थे.

इनमें दो सगे भाई, एक पिता-पुत्र व एक अधेड़ शामिल है, जिसके बेटे का आज शादी भी है. अस्पताल में प्रसव पीड़ा के दौरान किशोरी का गर्भपात हो गया. राजस्व पुलिस ने भ्रूण का विसरा ले लिया है. एसडीएम सीमा विश्वकर्मा ने बोला कि यह गंभीर प्रवृत्ति का क्राइम है. जिलाधिकारी से मुद्दे को रेगुलर पुलिस को सौंपने की मांग की गई है.

हरिद्वार के पथरी में नाबालिग से बलात्कार के कोशिश के एक आरोपी को पुलिस ने अरैस्ट कर लिया है. छह जून को मदद के बहाने युवती से चार युवकों ने बलात्कार का कोशिशकिया. असफल होने पर युवकों ने उसकी पिटाई की व उसका वीडियो बना लिया. पहले इस मुद्दे में गांव में कुछ लोग कानूनी कार्रवाई नहीं करने के लिए पीड़ित पक्ष पर दबाव बनाते रहे.

सात जून को बजरंग दल के कार्यकर्ताओं के सक्रिय होने पर आरोपियों के विरूद्ध पुलिस ने मुकदमा पंजीकृत किया. थानाध्यक्ष गोविंद कुमार ने बताया कि नाबालिग से बलात्कार का कोशिश करने के आरोपी शाकिब पुत्र शकीम निवासी गांव कटारपुर को गिरफतार कर लिया गया है. अन्य आरोपियों की भी तलाश की जा रही है.

देहरादून में बलात्कार के एक मुद्दे में विशेष पॉक्सो जज रमा पांडे की न्यायालय ने मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश दिए हैं. आरोप है कि युवक ने युवती (घटना के वक्त नाबालिग) एक टकराव को सुलझाने में मदद का झांसा दिया था. इसके बाद उसने कई बार बलात्कार किया. वर्तमान में आरोपी मर्डर के एक मुद्दे में कारागार में बंद है.

अधिवक्ता आशुतोष गुलाटी ने बताया कि नेहरू कॉलोनी थाना क्षेत्र की एक युवती की शिकायत पर कोर्ट ने यह आदेश दिए हैं. घटना साल 2014 की है. उस वक्त युवती लगभग 16 वर्ष की थी. युवती ने कोर्ट को प्रार्थनापत्र देकर बताया था कि मार्च 2014 में शिमला बाईपास स्थित उसकी बहन की दुकान में कुछ लोगों ने झगड़ा किया था. इसके चलते वे सब बहुत परेशान थे. ऐसे में उसकी मुलाकात विशाल उर्फ नवीन चौधरी से हुई.

नवीन ने उससे बोला कि वह एक संगठन से जुड़ा है व उसकी मदद करना चाहता है. इस कारण उसका दुकान में आना जाना लगा रहा. इसके चलते दोनों की दोस्ती हो गई. एक दिन विशाल ने उससे बोला कि वह विवाह करना चाहता है व सभी कागजात बनवा लिए हैं.

युवती उसके साथ चली गई, जहां रास्ते में उसने कोल्ड ड्रिंक में मादक पदार्थ पिलाकर उसके साथ बलात्कार किया. आरोप है कि इसके बाद उसने मेरठ ले जाकर भी युवती (तब किशोरी) से कई बार बलात्कार किया. अधिवक्ता गुलाटी ने बताया कि कोर्ट ने इन आरोपों के आधार पर नेहरू कॉलोनी पुलिस को मुकदमा पंजीकृत करने के आदेश दिए हैं.