कोरोना वायरस के बढ़ते मुद्दों ने दिल्ली की चिंता बढ़ाई

कोरोना वायरस के बढ़ते मुद्दों ने दिल्ली की चिंता बढ़ाई

 कोरोना (Corona) के बढ़ते संक्रमण के बीच अब दिल्ली में एक नयी चिंता खड़ी हो गई है। दिल्ली में हाल ही में मिले कोरोना संक्रमण के दो तिहाई मुद्दे उन इलाकों से हैं, जो बहुत ज्यादा सघन जनसंख्या वाले हैं 

व कच्ची बस्ती या फिर झुग्गी वाले इलाके हैं। इन इलाकों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना या करवाना बहुत ज्यादा कठिन है। राजधानी के बड़े हॉटस्पॉट भी इन्हीं इलाकों में स्थित हैं। इसके चलते संक्रमित आदमी के सम्पर्क में यदि कोई आता है, तो उसका पता लगाना भी बहुत ज्यादा कठिन हो जाता है।

इन इलाकों में हर दिन मिल रहे नए मामले
टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण दिल्ली नगर निगम के एक ऑफिसर ने बताया कि 84 कंटेनमेंट जोन ऐसे ही इलाकों में हैं व यहां पर हर दिन नए मुद्दे सामने आ रहे हैं। ऑफिसर के अनुसार, केवल इन बस्तियों, गैरकानूनी कॉलोनियों व शहरी गांवों के डिस्‍इंफेक्‍शन से कुछ नहीं होगा। हमें इसके लिए रणनीति की आवश्यकता होगी। वहीं, पांच बड़े रेड जोन की बात की जाएं तो वे भी यहीं हैं जैसे निजामुद्दीन बस्ती, चांदनी महल, तुगलकाबाद एक्सटेंशन, तिलक विहार व जहांगीरपुरी क्षेत्र इसी कैटेगरी में आते हैं।

इन इलकों में तेजी से फैल रहा संक्रमण



कोरोना के सामने आ रहे मामलों से ये साफ होता है कि इन इलाकों में संक्रमण बहुत ज्यादा तेजी से फैल रहा है। ईडीएमसी के अधिकारियों के अनुसार दिलशाद गार्डन इलाके को पूरी तरह से कंटेनमेंट एरिया में तब्दील करने के बाद अब चिंता है तो त्रिलोकपुरी व कल्याणपुरी को लेकर है, इन इलाकों में लॉकडाउन की पालना करवाना बहुत ज्यादा कठिन है। यहां रहने वाले लोग अभी भी अपने घरों से बाहर निकल रहे हैं साथ ही फेरी वाले भी सड़कों पर सरलता से देखे जा सकते हैं। इन इलाकों में रहने वाले लोग अभी तक महामारी को लेकर गंभीर नहीं हुए हैं। उत्तरी जिले में स्थित जहांगीरपुरी में बी, सी, एच व के ब्लॉक में छह कंटेनमेंट जोन हैं। दक्षिण दिल्ली में मदनपुर खादर में कच्छी कॉलोनी, खड्डा कॉलोनी व मेहला मोहल्ला, वहीं दक्षिण दिल्ली के संगम विहार में भी तीन कंटेनमेंट जोन हैं। लेकिन बाद की जाए चारदीवारी इलाके की तो यहां पर कई कंटेनमेंट जोन हैं।

लोग नहीं कर रहे लॉकडाउन का पालन
दक्षिण दिल्ली म्यूनसिपल कॉरपोरेशन के चेयरपर्सन भूपेंद्र गुप्ता ने बताया कि सघन जनसंख्या वाले इलाकों में ज्यादा मामलों का मिलना ये साफ बताता है कि इन क्षेत्रों में लॉकडाउन का ठीक ढंग से पालन नहीं किया गया। लोग अपने घरों के बाहर समूहों में बैठकर ताश खेलते हैं, वहीं सब्जी बेचने वाले बिना मास्क के यहां पर आते हैं। गुप्ता ने बताया कि अब ऐसे लोगों को लेकर सख्ती बरती जा रही है। सब्जी बेचने वालों के लिए एक समय निश्चित किया गया है ओर इसका उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी। ये समस्या संगम विहार, निहाल विहार, मोलराबंद, दिल्लीगेट, ब्रह्मपुरी, कल्याणपुरी, सीलमपुर, हरी नगर, चांदनी महल, बुराड़ी का संत नगर, जहांगीरपुर, जैतपुर की खड्डा कॉलोनी व मदनपुर में ज्यादा देखने को मिली है।

अलग से गाइडलाइंस
केन्द्र सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार के विजयराघवन ने अब ऐसे इलाकों जहां पर जनसंख्या ज्यादा है व लोग शौचालय और नहाने के लिए एक ही स्थान का उपयोग करते हैं, नयी गाइडलाइन जारी की है। ऐसे इलाकों में सभी को फेस मास्क पहनना, पांव से चलने वाले हाथ धोने के उपकरण, सार्वजनिक शौचालय के इस्तेमाल व अन्य सार्वजनिक जगहों के ‌उपयोग में कमी को लेकर अब सख्ती बरती जाएगी। अधिकारियों के अनुसार इन गाइडलाइंस पर कार्य किया जा रहा है व जल्द ही इन्हें लागू किया जाएगा।