सुप्रीम न्यायालय ने ताज संरक्षित क्षेत्र में रेल लाइन के लिए रेलवे को 453 पेड़ काटने की दी सशर्त इजाजत

सुप्रीम न्यायालय ने ताज संरक्षित क्षेत्र में रेल लाइन के लिए रेलवे को 453 पेड़ काटने की दी सशर्त इजाजत

सुप्रीम न्यायालय ने ताज संरक्षित क्षेत्र (TTZ) में रेल लाइन के लिए रेलवे को 453 पेड़ काटने की दी सशर्त इजाजत दे दी है। उच्चतम न्यायालय के आदेशानुसार पेड़ काटने के बदले पौधे लगाने होंगे। नये पौधे लगाने के बारे में नालसा की टीम मौके का मुआयना करके तीन महीने में न्यायालय को रिपोर्ट देगी।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इसके साथ ही उच्चतम न्यायालय ने आगरा में खुले नालों व सड़क पर सीवर का पानी बहने से हो रही गंदगी व बीमारियों पर भी चिंता जताई। न्यायालय ने पर्यावरणविद एमसी मेहता व NEERI से वहां का मुआयना करके इसके तरीका पर छह हफ्ते में रिपोर्ट देने को बोला है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि आगरा में ताजमहल के आसपास निर्माण को लेकर उच्चतम न्यायालय ने पिछले दिनों एक अहम आदेश दिया था, जिसके अनुसार बाद ताज संरक्षित क्षेत्र में सभी तरह के निर्माण व औद्योगिक गतिविधियों पर लगी रोक हटा दी गई। न्यायालय ने ताजमहल के आसपास बुनियादी सुविधाओं, प्रदूषण न फैलाने वाली गतिविधियों की इजाजत दी, लेकिन बोला है कि इन सबके लिए सेंट्रल एंपावर्ड कमेटी से इजाजत लेनी महत्वपूर्ण होगी।