एसपीजी संशोधन बिल लोकसभा में 27 नवंबर 2019 को हो गया पारित, जाने इस बिल के प्रावधान

एसपीजी संशोधन बिल लोकसभा में 27 नवंबर 2019 को हो गया पारित, जाने इस बिल के प्रावधान

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह आज राज्यसभा में विशेष सुरक्षा समूह (संशोधन) विधेयक, 2019 को स्थानांतरित करने के लिए. बता दें कि एसपीजी संशोधन बिल लोकसभा में 27 नवंबर 2019 को पारित हो गया था. इस बिल में सिर्फ पीएम व उनके परिवार (जो उनके साथ आधिकारिक निवास पर रहते हो) को एसपीजी सुरक्षा देने का प्रावधान है. पीएम के अतिरिक्त किसी भी विशेष आदमी को ये नहीं दिया जाएगा. पीएम पद से हटने के पांच वर्ष बाद उनसे भी यह सुरक्षा वापस ले ली जाएगी.

लोकसभा में एसपीजी संशोधन बिल ध्वनिमत से पास हुआ था. तब गृहमंत्री अमित शाह ने बोला था कि 'चंद्रशेखर जी की सुरक्षा ले ली गई कोई कांग्रेस पार्टी कार्यकर्ता कुछ नहीं बोला, नरसिम्हरा राव की सुरक्षा चली गई, किसी ने चिंता नहीं दिखाई. आईके गुजराल की सुरक्षा मर्डर के धमकी के बाद ली गई. चिंता किसकी है, देश के नेतृत्व की या एक परिवार की?'

इस दौरान कांग्रेस पार्टी ने सदन से वॉक आउट कर दिया था. इस बिल को पास करने के दौरान विशेष सुरक्षा समूह कानून में संशोधन को आवश्यक करार देते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने बुधवार को लोकसभा में बोला था कि एसपीजी अधिनियम संशोधन विधेयक लाने का मकसद एसपीजी व प्रभावी बनाना व कानून के मूल उद्देश्य को बहाल करना है. विशेष सुरक्षा समूह एसपीजी अधिनियम संशोधन विधेयक को चर्चा एवं पारित करने के लिये रखते हुए शाह ने बोला कि एसपीजी का गठन पीएम की सुरक्षा के लिए किया गया था व संसार के कई राष्ट्रों में उनके शासनाध्यक्षों की सुरक्षा के मकसद से ऐसे ही विशिष्ट सुरक्षा इकाई बनाई गई हैं .