राजस्थान में अब कोरोना संक्रमण को लेकर सबसे बड़ी चिंता प्रवासी बन चुके

राजस्थान में अब कोरोना संक्रमण को लेकर सबसे बड़ी चिंता प्रवासी बन चुके

राजस्थान में कोरोना (Coronavirus) पॉजिटिव मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। सरकार की सैकड़ों कोशिशों के बावजूद यहां पर कोरोना मरीज हर दिन लगातार बढ़ रहे हैं। 

23 मई शनिवार की प्रातः काल 9 बजे आई रिपोर्ट के अनुसार 48 नए मुद्दे आए हैं। जिसके बाद, यहां पर कोरोना पॉजिटिव मरीजों का आंकड़ा 6542 पहुंच गया है।

वहीं, राजस्थान में इस समय कोरोना एक्टिव केस की संख्या 2695 हो गई है। हालांकि, 3692 मरीज रिकवर भी हो चुके हैं। राजस्थान में कुल मौतों का आंकड़ा 155 हो गया है।  

शुक्रवार 22 मई को प्रातः काल 9 बजे राजस्थान के धौलपुर से दो, नागौर से 17, झालावाड़ से 4, बांसवाड़ा से एक, झुंझुनू से 6, कोटा से 10, जयपुर से 5, भीलवाड़ा से 1, भरतपुर से 1 व अजमेर से 1 पॉजिटिव केस सामने आया है।

बड़ी संख्या में प्रवासी पॉजिटिव
राजस्थान में अब कोरोना संक्रमण को लेकर सबसे बड़ी चिंता प्रवासी बन चुके हैं क्योंकि लगातार राजस्थान के करीब 12 जिलों से प्रवासियों के सबसे ज्यादा नए पॉजिटिव केस दर्ज हो रहे हैं।  शनिवार प्रातः काल 9 बजे तक 1309 हुआ कुल पॉजिटिव का आंकड़ा प्रवासियों का है। जिसमें डूंगरपुर से 277, जालौर से 126, नागौर से 129, पाली से 132, सिरोही से 70, सीकर से 60, भीलवाड़ा से 57, बाड़मेर से 58 व जोधपुर से 60 केस सामने आए हैं।
  
नागौर में फटा कोरोना बम
आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि नागौर में एक बार फिर कोरोना बम फटा है। शुक्रवार को जिले में एक दिन में एक साथ 28 नए मुद्दे सामने आए थे व शनिवार प्रातः काल 17 ने केस सामने आये हैं। जिसके बाद चिकित्सा महकमे में खलबली मच गया है। अब तक जिले में 5 कोरोना संक्रमितों की मृत्यु हो चुकी है व कुल 263 मुद्दे अब तक कोरोना संक्रमण के सामने आ चुके हैं।

साथ ही आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि राजस्थान के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि प्रदेश के भिन्न-भिन्न जिलों में करीब 10 लाख प्रवासी राजस्थानी व श्रमिक प्रदेश में आए हैं। इनमें से करीब 7.25 लाख लोगों को होम क्वारेंटाइन में रखा गया है व करीब 34 हजार लोग संस्थागत क्वारेंटाइन में हैं। उन्होंने बोला कि बाहरी लोगों के आगमन के साथ ही सरकार ने जाँच की सुविधा में बढ़ोतरी की है। प्रदेश में अब 15 हजार से ज्यादा जांचें रोजाना हो पा रही हैं। उन्होंने बोला कि अब सरकार का जोर बाहर से आने वाले प्रवासियों के क्वारेंटाइन सुविधा उपलब्ध कराने पर ज्यादा है।

उन्होंने बोला कि पाली, सिरोही, जालौर, डूंगरपुर जिलों में प्रवासी बड़ी तादात में आए हैं तो इन क्षेत्रों में पॉजीटिव केसेज के मामलों में भी बढ़ोतरी हुई है। इन क्षेत्रों में सरकार ने जांचों की सुविधा में वृद्धि की है। यहां मुख्य बात क्वारेंटाइन की ही है। उन्होंने बोला कि आने वाले सभी प्रवासियों का स्वागत है, लेकिन वे यदि खुद को क्वारेंटाइन में नहीं रहेंगे तो प्रदेशवासियों द्वारा अब तक की गई मेहनत बेकार हो जाएगी।

मोबाइल ओपीडी वैन से 20 हजार से ज्यादा हुए लाभान्वित
उन्होंने बोला कि अन्य बीमारियों के इलाज के लिए चलाई जा रही 550 मेडिकल मोबाइल ओपीडी वैन प्रदेश भर में लोगों का चिकित्सकीय सुविधाएं उपलब्ध करवा रही हैं। इन वैनों के जरिए अब तक करीब 22 हजार लोगों इससे लाभान्वित हो चुके हैं। उन्होंने बोला कि प्रदेश में जहां-जहां जॉजीटिव केसेज ज्यादा आ रहे हैं वहां 10-10 ओपीडी वेन को सैंपल कलेक्शन के कार्य में लगाई जाएगी।