संक्रमित मामलों की संख्या पांच लाख 28 हजार 859, पढ़े

 संक्रमित मामलों की संख्या पांच लाख 28 हजार 859, पढ़े

 महाराष्ट्र (Maharashtra), तमिलनाडु (Tamilnadu), आंध्रप्रदेश (Andhara Pradesh), कर्नाटक (Karnataka) व पश्चिम बंगाल (West Bengal) जैसे कई राज्यों में एक दिन में कोविड-19 (Covid-19) के मामलों में सर्वाधिक वृद्धि होने के साथ ही सारे हिंदुस्तान में एक दिन में करीब 20 हजार मुद्दे सामने आए हैं।

इससे हिंदुस्तान में कोविड-19 से संक्रमित लोगों की संख्या रविवार को पांच लाख 28 हजार 859 हो गई, वहीं मृतकों की संख्या 16,095 हो गई है। उत्तरप्रदेश (Uttar Pradesh) व मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) ने भी निगरानी बढ़ाते हुए दिल्ली (Delhi), गोवा (Goa), ओडिशा (Odisha) व झारखंड (Jharkhand) की तर्ज पर घर-घर सर्वेक्षण कराने का निर्णय किया है। केन्द्र सरकार (Central Government) ने बताया कि अच्छा होने वाले लोगों की संख्या कोविड-19 से संक्रमित लोगों की तुलना में एक लाख ज्यादा है। सरकार ने बोला कि राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों के साथ मिलकर ‘‘एहतियाती कदम’’ उठाने के ‘‘उत्साहजनक परिणाम’’ दिख रहे हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) ने बोला कि रविवार को संक्रमित मामलों की संख्या पांच लाख 28 हजार 859 हो गई व कोरोना वायरस संक्रमण का उपचार करा रहे लोगों की संख्या जहां दो लाख तीन हजार 51 है वहीं तीन लाख नौ हजार 712 लोग इस बीमारी से अच्छा हो चुके हैं व एक मरीज दूसरे देश चला गया है। एक ऑफिसर ने बताया, ‘‘इस प्रकार अभी तक करीब 58.56 फीसदी मरीज अच्छा हो चुके हैं। ’’ केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी एक बयान में बोला गया, ‘‘कोविड-19 के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के साथ हिंदुस्तान सरकार द्वारा उठाए गए चरणबद्ध एहतियाती कदमों से उत्साहजनक परिणाम दिख रहे हैं। ’’

एक जून को तीन लाख 38 हजार थे संक्रमित
हिंदुस्तान में लॉकडाउन के नियमों में ढील दिए जाने की तारीख एक जून तक संक्रमित लोगों की संख्या तीन लाख 38 हजार 324 थी। देश में रविवार को संक्रमण के 19,906 मुद्दे सामने आए। यह लगातार पांचवां दिन है जब कोरोना वायरस संक्रमण की संख्या 15 हजार से अधिक हुई है। देश में ‘‘अनलॉक’’ चरण प्रारम्भ होते ही पीएम नरेन्द्र मोदी ने बोला कि अब कोरोना वायरस को परास्त करने व अर्थव्यवस्था को मजबूत करने पर ध्यान केंद्रित करना होगा। उन्होंने बोला कि हिंदुस्तान ने हमेशा आपदा को सफलता में परिवर्तित किया है व यह साल भी अलग नहीं होगा। उन्होंने बोला कि लोगों को लॉकडाउन के समय की तुलना में ज्यादा सतर्कता बरतनी होगी।




पीएम ने अपने मासिक ‘‘मन की बात’’ प्रोग्राम में चेताया, ‘‘हमेशा याद रखिए, अगर आपने मास्क नहीं पहना, छह फुट सामाजिक दूरी का पालन नहीं किया या अन्य एहतियात नहीं बरते तो खुद के अतिरिक्त आप दूसरों को भी खतरे में डाल रहे हैं, खासकर घर के बुजुर्गों व बच्चों को। ’’

उद्धव ठाकरे ने किया प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी की बातों का समर्थन
पीएम की बातों का समर्थन करते हुए महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने रविवार को बोला कि 30 जून के बाद भी प्रदेश में लॉकडाउन की पाबंदियां जारी रहेंगी, क्योंकि संकट अभी टला नहीं है। ठाकरे ने बोला कि अर्थव्यवस्था को फिर से पटरी पर लाने के लिए अनलॉक की प्रक्रिया को धीरे-धीरे लागू किया जा रहा है, जिसे ‘मिशन बिगिन अगेन’ नाम दिया गया है।

मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे ज्यादा मुद्दे सामने आए हैं। वहां संक्रमण के कुल एक लाख 59 हजार 133 मुद्दे हैं जबकि दिल्ली में 80,188, तमिलनाडु में 78,335, गुजरात में 30,709, उत्तरप्रदेश में 21,549, राजस्थान में 16,944 व पश्चिम बंगाल में 16,711 मुद्दे सामने आए हैं।

मुंबई पुलिस ने लोगों से की ये अपील
कोरोना वायरस का संक्रमण फैलने से रोकने के कोशिश के तहत मुंबई पुलिस ने लोगों से अपील की है कि व्यायाम के लिए जिम या दुकानों व सैलूनों में जाने के लिए अपने घर से दो किलोमीटर से ज्यादा आगे नहीं जाएं। पुलिस के एक वरिष्ठ ऑफिसर ने बोला कि ऑफिस या चिकित्सकीय आपातकाल को ध्यान में रखकर ही दो किलोमीटर से ज्यादा दूर जाने की अनुमति होगी। उन्होंने बोला कि इस दायरे से बाहर खरीदारी करने जाने पर पूरी तरह प्रतिबंध होगा।



कोरोना वायरस के कारण लागू पाबंदियों में ढील दिए जाने के बाद मुंबई में रविवार को तीन महीने के अंतराल के बाद कुछ सैलून खुले, जबकि कई श्रमशक्ति की कमी के कारण बंद रहे। सीएम ठाकरे ने बोला कि चूंकि बड़ी संख्या में कोरोना वायरस संक्रमण के मुद्दे सामने आ रहे हैं, इसलिए कड़ा अनुशासन लागू रहना महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं लॉकडाउन शब्द का इस्तेमाल नहीं भी कर रहा हूं तो भी गलतफहमी में नहीं रहें व सुरक्षा कम नहीं करें। वास्तव में हमें ज्यादा अनुशासन दिखाने की आवश्यकता है। ’’

खत्म नहीं हुआ है संकट
सीएम ने बोला कि संकट अभी समाप्त नहीं हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘हम इस युद्ध को अंतिम चरण में आधा-अधूरा नहीं छोड़ सकते। मुझे विश्वास है कि आप सरकार के साथ योगदान करते रहेंगे ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि लॉकडाउन फिर से लागू नहीं हो। ’’उन्होंने कहा, ‘‘पीपीई किट व एन-95 मास्क की कमी नहीं है। अगर चिकित्सकीय आपूर्ति में कमी है तो सरकार को बताएं। महाराष्ट्र को आपके अनुभव की आवश्यकता है। ’’ उन्होंने बोला कि कोरोना वायरस से बुरी तरह प्रभावित मुंबई में ‘चेज द वायरस’ पहल के अच्छे परिणाम सामने आए व अब इसे प्रदेश के दूसरे हिस्सों में भी लागू किया जाएगा।

अभियान के तहत कोविड-19 रोगी के निकट सम्पर्क में आने वाले 15 लोगों को आवश्यक रूप से संस्थागत पृथक-वास केन्द्र में रखा जाएगा, जबकि समुदाय के नेता लोगों को संस्थागत पृथक-वास केंद्रों में अन्य बीमारियों, भोजन व अन्य सुविधाओं की जानकारी देंगे। साथ ही वे क्लीनिक के समय के बारे में भी बताएंगे। इसे 27 मई को प्रारम्भ किया गया था।

दिल्ली में दोगुने हुए कंटेनमेंट जोन
दिल्ली में मामलों में आकस्मित बढ़ोतरी के बाद ऑफिसर संशोधित रणनीति को लागू कर रहे हैं व कोविड-19 निषिद्ध क्षेत्रों की संख्या 218 से बढ़कर 417 हो गई है, जबकि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए घर-घर सर्वेक्षण की नीति के तहत करीब दो लाख 45 हजार लोगों की जाँच की गई है। अधिकारियों ने बताया कि निषिद्ध क्षेत्रों की संख्या में व बढ़ोतरी हो सकती है क्योंकि केन्द्र के आदेश के बाद ऑफिसर कुछ जिलों में इस तरह के इलाकों की फिर से पहचान करने की प्रक्रिया पूरी नहीं कर पाए हैं।

घर-घर जाकर दो लाख लोगों की हुई जांच
एक ऑफिसर ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया, ‘‘हमने महानगर में कोविड-19 के लिए घर-घर जाकर करीब दो लाख लोगों की जाँच की है। करीब 45 हजार लोगों की जाँच कोविड-19 निषिद्ध क्षेत्रों में की गई है। ’’ प्रत्येक घर की जाँच की प्रक्रिया छह जुलाई तक पूरी हो जाएगी।

2011 की जनगणना के मुताबिक, राष्ट्रीय राजधानी में करीब 34.35 लाख घर थे जिनमें 33.56 लाख शहरी क्षेत्रों में व 79,574 घर ग्रामीण क्षेत्रों में थे।

दस हजार से अधिक मामलों वाले अन्य प्रदेश हैं तेलंगाना (13,436), हरियाणा (13,427), मध्यप्रदेश (12,965), आंध्रप्रदेश (12,285) व कर्नाटक (11,923)।

मेरठ मंडल से प्रारम्भ किया जाएगा अभियान
उत्तरप्रदेश के अलावा मुख्य सचिव (चिकित्सा व स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने बोला कि प्रदेश में जुलाई में मेरठ मंडल से बड़े पैमाने पर अभियान प्रारम्भ किया जाएगा जिसमें पोलियो उन्मूलन की तर्ज पर घर-घर सर्वेक्षण किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘इसे निषिद्ध व गैर निषिद्ध क्षेत्रों में किया जाएगा। ’’

मध्यप्रदेश की सरकार ने बोला कि प्रदेश में कोविड-19 के प्रसार पर नियंत्रण के लिए वह एक जुलाई से ‘कोरोना को मारो’ अभियान प्रारम्भ करेगी। सीएम शिवराज सिंह चौहान ने कोविड-19 महामारी पर डिजिटल समीक्षा मीटिंग के दौरान बोला कि अभियान के तहत घर-घर सर्वेक्षण किया जाएगा ओर दूसरी बीमारियों से पीड़ित नागरिकों की भी जाँच की जाएगी। चौहान ने बोला कि 15 दिनों के अभियान में ढाई लाख जाँच की जाएंगी व प्रतिदिन 15 हजार से 20 हजार नमूने एकत्रित किए जाएंगे।



एक दिन में जिन राज्यों में सर्वाधिक मुद्दे सामने आए उनमें तमिलनाडु में 3940 है जिससे प्रदेश में कुल मामलों की संख्या 82,275 हो गई। गुजरात में 624 नये मुद्दे सामने आए जिससे प्रदेश में कुल मुद्दे 31,397 हो गए, आंध्रप्रदेश में 813 मामलों के साथ कुल मुद्दे 13098 हो गए हैं व पश्चिम बंगाल में 572 नये मामलों के साथ कुल मुद्दे 17283 हो गए हैं।

कर्नाटक में मास्क नहीं पहनने पर दर्ज होगा आपराधिक मामला
कर्नाटक में बेंगलुरू पुलिस ने बोला कि मास्क लगाने व सामाजिक दूरी के नियमों का उल्लंघन करने वालों के विरूद्ध आपराधिक मुद्दा दर्ज किया जाएगा। बेंगलुरू के पुलिस आयुक्त भास्कर राव ने रविवार को बोला कि महानगर में अगर कोई कोविड-19 के एहतियाती नियमों का पालन नहीं कर रहा है तो लोग पुलिस को फोन कर सकते हैं।

सरकार द्वारा कोरोना वायरस को फैलने से रोकने का कोशिश तेज करने के बीच उन्होंने सिलसिलेवार ट्वीट कर बोला कि पुलिस व नगर निकाय के ऑफिसर महानगर की सड़कों पर गश्त करेंगे व मास्क एवं सामाजिक दूरी के नियम लागू करेंगे, वहीं आम लोग भी इसका पालन नहीं करने वाले लोगों को आगाह कर सकते हैं।

बिहार के पिछड़ा एवं अति पिछड़ा वर्ग कल्याण मंत्री विनोद कुमार सिंह व उनकी पत्नी रविवार को कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए व कटिहार जिले में एक होटल के पृथक-वास केन्द्र में भेज दिया गया।

रोजाना दो लाख सैंपल की हो रही जांच
हिंदुस्तान में अभी तक केवल कोविड-19 की जाँच के लिए 1036 प्रयोगशालाएं हैं। इनमें 749 सरकारी क्षेत्र की व 287 व्यक्तिगत क्षेत्र की प्रयोगशालाएं हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा, ‘‘रोजाना दो लाख से अधिक नमूनों की जाँच की जा रही है। पिछले 24 घंटे में दो लाख 31 हजार 95 नमूनों की जाँच हुई है। अभी तक 82 लाख 27 हजार 802 नमूनों की जाँच हुई है। ’’ रविवार की प्रातः काल तक जिन 410 व लोगों की मृत्यु हुई, उनमें से महाराष्ट्र में 167, तमिलनाडु में 68, दिल्ली में 66, यूपी में 19, गुजरात में 18, पश्चिम बंगाल में 13, राजस्थान व कर्नाटक में 11-11, आंध्र प्रदेश में नौ, हरियाणा में सात, पंजाब व तेलंगाना में छह-छह, मध्य प्रदेश में चार, जम्मू और कश्मीर में दो व बिहार, ओडिशा तथा पुडुचेरी में एक-एक आदमी की मृत्यु हुई है।