वर्तमान स्थिति में न्यायोचित नहीं स्थानांतरण, पढ़े

वर्तमान स्थिति में न्यायोचित नहीं स्थानांतरण,  पढ़े

जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल के ट्रान्सफर रोकने की मांग को लेकर सामाजिक संगठनों और जनप्रतिनिधियों ने कलेक्ट्रेट पर धरना दिया. 

सीएम को ज्ञापन भेज सामाजिक संगठनों और जनप्रतिनिधियों ने बोला कि वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के बीच में डीएम का ट्रान्सफर उचित नहीं है.


नए जिलाधिकारी को यहां की परिस्थितियों को समझने में समय लगेगा. ऐसे में हल्की सी चूक, भारी पड़ सकती है. केदार-बदरी श्रम समिति के अध्यक्ष राजेंद्र सिंह नेगी के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने कलक्ट्रेट पहुंचकर डीएम मंगेश घिल्डियाल का ट्रान्सफर रोकने की मांग को लेकर धरना दिया.बोला कि कोविड-19 से निपटने के लिए जिलाधिकारी द्वारा बेहतर कोशिश किए जा रहे हैं, जिस कारण रुद्रप्रयाग जनपद अभी तक ग्रीन जोन में है. इन कठिन समय में सरकार द्वारा डीएम का स्थानांतरण, समझ से परे है.

उधर, ऊखीमठ में ग्राम प्रधान संगठन ने और प्रधान संगठन के ब्लॉक अध्यक्ष सुभाष रावत ने प्रदेश सरकार से डीएम का ट्रान्सफर रोकने की मांग की. इस मौके पर, तहसील प्रशासन के माध्यम से सीएम को ज्ञापन भी भेजा गया.

ज्ञापन में ग्राम प्रधान संदीप पुष्पवाण, योगेंद्र नेगी, नवीन रावत, पिंकी देवी समेत अन्य जनप्रतिनिधियों के हस्ताक्षर हैं. दूसरी तरफ जनअधिकार मंच ने भी मुख्यमंत्री से डीएम घिल्डियाल का स्थांनातरण छह माह के लिए रोकने की मांग की है.