मुंबई का Siddhivinayak और शिरडी का Sai Baba मंदिर बंद

मुंबई का Siddhivinayak और शिरडी का Sai Baba मंदिर बंद

मुंबई: महाराष्ट्र (Maharashtra) के शिरडी के सांई बाबा मंदिर (Shirdi Sai Baba Temple) सोमनार देर शाम 8 बजे से बंद कर दिया गया है बाबा का ये विश्व मशहूर मंदिर वैसे 30 अप्रैल तक बंद रहेगा इस दौरान मंदिर के अन्य सभी आयोजन पहले की तरह चलते रहेंगे हालिया निर्णय के अनुसार यहां प्रतिदिन 4 बार होने वाली आरती और पूजा पाठ समेत सभी रीति-रिवाजों का पालन मंदिर से संबद्ध पंडितों के जरिए किया जाएगा वहीं इस मंदिर के साथ ही यहां का प्रसादालय और भक्त निवास भी बंद करने की बात कही गई है शिरडी सांई संस्थान के एग्जिक्यूटिव ऑफिसर रविन्द्र ठाकरे ने बताया कि संस्थान की तरफ से प्रारम्भ किए गए कोविड हास्पिटल (Covid Hospital)  और अन्य नॉन कोविड हॉस्पिटल में रोगियों का उपचार पहले की तरह जारी रहेगा

महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) द्वारा कोविड-19 महामारी (Corona Pandemic) को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) जैसे सावधानी ी फैसलों के बाद शिरडी सांई बाबा मंदिर प्रशासन ने ये फैसला लिया है  

कोविड-19 वायरस संक्रमण की बेकाबू गति के बीच मुंबई के सिद्धिविनायक मंदिर को भी सोमवार रात 8 बजे से दर्शन के लिए अगले आदेश तक बंद कर दिया गया है वहीं नियमित आरती और पूजा पहले की तरह जारी रहेगी जिसका वेबकास्ट किया जाएगा

महाराष्ट्र में संक्रमण की स्थिति

दरअसल महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Government) ने कोविड-19 ( Covid-19 ) के बढ़ते मामलों को देखते हुए पूरे महाराष्ट्र में नाइट कर्फ्यू (Night Curfew) का ऐलान किया गया है इसमें रात 8 बजे से प्रातः काल 7 बजे तक लोगों के घर से निकलने पर पाबंदी रहेगी, साथ ही शाम के समय एक साथ 5 लोगों के खड़े होने पर भी रोक लगा दी गई है इसके अतिरिक्त वीकेंड पर लॉकडाउन (Lockdown) का निर्णय लिया गया है वहीं बिज़नस मैन वर्ग लॉकडाउन के निर्णय के विरोध में उतर आया है


दुनियाभर के 27 अमीर देशों में 25 गुना तेज टीकाकरण

दुनियाभर के 27 अमीर देशों में 25 गुना तेज टीकाकरण

धरती के अधिकांश संसाधनों पर कब्जा जमाने वाले दुनिया के अमीर देशों की हनक आपदा के समय में भी दिख रही है। कोविड-19 महामारी से जूझ रही दुनिया के लिए वैक्सीन ही एकमात्र जीवन की किरण बनकर सामने आई है, लेकिन असमान वितरण ने महामारी से लड़ाई की चुनौती को कठिन बना दिया है।

अब तक दुनिया की पांच फीसद आबादी का टीकाकरण पूरा हो चुका है, लेकिन इस पांच फीसद आबादी में अमीर-गरीब की गहरी खाई नजर आ रही है। ब्लूमबर्ग वैक्सीन ट्रैकर के अनुसार गुरुवार तक दुनिया को दी गई कुल वैक्सीन की खुराक में 40 फीसद हिस्सेदारी सिर्फ 27 अमीर देशों की है जिनकी वैश्विक आबादी में हिस्सेदारी महज 11 फीसद है। पेश है एक नजर:

वितरण की असमानता

ब्लूमबर्ग वैक्सीन ट्रैकर के आंकड़े बताते हैं कि उच्च आय वाले इन देशों में कम आय वाले देशों के मुकाबले 25 गुना तेज टीकाकरण हो रहा है। कम धनी और दुनिया की आबादी में दूसरा 11 फीसद का हिस्सा रखने वाले देशों के हिस्से अभी तक सिर्फ 1.6 फीसद ही वैक्सीन आई है। ट्रैकर के अनुसार दुनिया के 154 देशों में 72.60 करोड़ वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है।


आबादी और टीकाकरण का अनुपात

ब्लूमबर्ग वैक्सीन ट्रैकर के अनुसार अगले तीन महीने में अमेरिका की 75 फीसद आबादी को टीके लगाए जाने का लक्ष्य है। विडंबना यह है कि दुनिया के करीब आधे देश अभी ऐसे हैं जहां की एक फीसद आबादी का भी टीकाकरण नहीं संपन्न हो पाया है। टीकाकरण में यह असमानता तब है जब दुनिया के 40 सबसे गरीब देशों के पास टीकाकरण का डाटा सार्वजनिक करने के लिए उपलब्ध ही नहीं है। इन देशों की वैश्विक आबादी में हिस्सेदारी आठ फीसद है।


अफ्रीका महाद्वीप में सबसे कम टीकाकरण

दुनिया का सबसे गरीब महाद्वीप अफ्रीका में टीकाकरण भी सबसे कम है। इसके 54 देशों में से सिर्फ तीन में एक फीसद से अधिक आबादी को टीके लगाए जा सके हैं। इनमें से 20 से ज्यादा देश ऐसे हैं जहां टीकाकरण का खाता ही नहीं खुला है।

क्या हो तरीका


अभी ऐसी कोई प्रणाली नहीं विकसित है जो दुनिया भर में वैक्सीन के समान वितरण को सुनिश्चित करा सके। यदि दुनिया की सभी वैक्सीन का वितरण आबादी के आधार पर किया जाए तो अपने वास्तविक हिस्से के मुकाबले अमेरिका छह गुना अधिक खुराक लगा लगाएगा। ब्रिटेन आबादी के अनुपात में सात गुना अधिक टीके का इस्तेमाल करेगा। इस आशय की सूची में संयुक्त अरब अमीरात और इजरायल शीर्ष पर है जो अपनी आबादी के हिसाब से हिस्से के क्रमश: नौ और 12 गुने टीकाकरण करेंगे। चीन में टीकाकरण की रफ्तार दुनिया के औसत के करीब है। यहां दुनिया का 20 फीसद टीका दुनिया की 18 फीसद आबादी को लगाया जा रहा है।


आज है अप्रैल माह का पहला प्रदोष व्रत, जानें शुभ मुहूर्त और महत्व       क्या आप भी करते हैं खाना खाते समय ये गलतियां तो मां लक्ष्मी हो सकती हैं नाराज       गुरुवार को रखने जा रहे हैं व्रत तो इन बातों का रखें खास ख्याल       करें काले तिल के ये उपाय, घर में आती है सुख-समृद्धि       कब से शुरू हो रहा है रमजान का पवित्र महीना, जानें यहां       ताइवान अधिकारी के साथ सरकार के संबंधों को मिलेगा बढ़ावा       अमेरिका-ईरान के बीच अगले सप्ताह शुरू होगी वार्ता, परमाणु समझौते का मुख्य बिंदु       कोरोना संक्रमण के चलते दूसरे देशों को टीके की आपूर्ति कम कर सकता है भारत : गावी प्रमुख       अमेरिकी सांसद ने 'क्वाड प्लस फ्रांस' नौसेना अभ्यास को सराहा       वर्जीनिया में एलजी पद की दौड़ में शामिल पुनीत अहलूवालिया के पक्ष में उतरे कपिल देव       मध्य प्रदेश सीएम शिवराज ने बढ़ते कोविड मामलों पर जताई चिंता, बोले...       दुनियाभर के 27 अमीर देशों में 25 गुना तेज टीकाकरण       बढ़ते संक्रमण को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार अलर्ट, रेलवे स्टेशनों और हवाई अड्डों पर RT- PCR परीक्षण की तैयारी       आम की यह किस्म बारहों महीने देती है फल, राजस्थान के इस किसान ने किया विकसित       झारखंड और यूपी के कई इलाकों में हुई बारिश, जानें अपने राज्य का मौसम       पेट्रोल डीजल की खूब बचत करती हैं ये 4 कारें, इनका माइलेज है सबसे ज्यादा       नई किआ Seltos से लेकर हुंडई Alcazar तक, अप्रैल में लॉन्चिंग को तैयार ये धाकड़ एसयूवीज !       इन SUVs को जमकर खरीद रहे ग्राहक, कीमत है कम और फीचर्स हैं ज्यादा       फ्यूल सेविंग गैजेट्स के बारे में ये बाते नहीं जानते होंगे आप, जानें       ये हैं भारत की सबसे सस्ती फैमिली कारें, 7 लोगों का परिवार आसानी से हो जाएगा इनमें फिट