कांग्रेसियों ने मंगलवार को लखनऊ में इस बिल के विरोध में दिया धरना

कांग्रेसियों ने मंगलवार को लखनऊ में इस बिल के विरोध में दिया धरना

देश की राष्टीयव्यापी पार्टी कांग्रेस पार्टी ने नागरिकता संशोधन बिल 2019 को संविधान विरोधी करार दिया है। प्रदेश कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने बोला कि सरकार इस बिल के जरिये हिंदुस्तान के संविधान को हटाकर आरएसएस के विधान को लाने की तैयारी कर रही है। कांग्रेसियों ने मंगलवार को लखनऊ में इस बिल के विरोध में धरना दिया व इसकी प्रतियां फूंकीं। उन्होंने बताया कि नागरिकता संशोधन बिल के विरूद्ध बुधवार को भी प्रदेश भर में विरोध होगा व प्रतियां जलाई जाएंगी।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार कांग्रेस पार्टी की राष्ट्रीय महासचिव और यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा कांग्रेसियों के प्रदेश में हो रहे विरोध प्रदर्शन में शामिल तो नहीं हो सकीं, लेकिन उन्होंने प्रदेश की जनता व कार्यकर्ताओं को लेटर जरूर भेजा. इसमें उन्होंने बोला है कि नागरिकता संशोधन बिल हिंदुस्तान के संविधान को हटाकर आरएसएस के विधान को लाने की ओर बढ़ाया गया कदम है। हिंदुस्तान का संविधान कहता है कि सबको बराबरी की नजर से देखो. बीजेपी का नागरिकता संशोधन बिल कहता है कि देश के नागरिकों को बराबरी की नजर से नहीं बांटकर देखो।

इस आंदोलन के तहत प्रदेश कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने जीपीओ पार्क स्थित महात्मा गांधी की प्रतिमा के समक्ष धरना देकर नागरिकता संशोधन बिल 2019 का विरोध किया। इसकी प्रतियां जलाकर रोष प्रकट किया गया। उन्होंने बोला कि यह बिल देश के संविधान के विरूद्ध है। इस बिल में एक धर्म को निशाना बनाया गया है जो कि संविधान की मूल आत्मा के विरूद्ध है। उन्होंने बोला कि बीजेपी देश में संघी विधान लागू करना चाहती है, पर संघ परिवार का सपना कभी पूरा नहीं होगा। प्रदर्शन करने वालों में कांग्रेस पार्टी विधानमंडल दल की नेता आराधना मिश्रा 'मोना', पूर्व विधायक श्यामकिशोर शुक्ल, पूर्व मंत्री आरके चौधरी, वीरेन्द्र मदान, मनोज यादव, ओंकारनाथ सिंह, मारूफ खान, अरशी रजा, विनोद मिश्र, गौरव चौधरी सहित कई अन्य मौजूद थे।