बीते पांच वर्षों में देश के विभिन्न आईआईटीज में इतने विद्यार्थी भिन्न-भिन्न कारणों से दे चुके अपनी जान, जानिए

 बीते पांच वर्षों में देश के विभिन्न आईआईटीज में इतने विद्यार्थी भिन्न-भिन्न कारणों से  दे चुके अपनी जान, जानिए

देश के भिन्न-भिन्न भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थानों (IITs) से अक्सर विद्यार्थियों की खुदकुशी की खबरें आती हैं. इसके पीछे कभी पढ़ाई का दबाव, कभी सहपाठियों द्वारा मानसिक प्रताड़ना तो कभी कुछ व कारण बताए जाते हैं. कुछ ही दिन पहले आईआईटी मद्रास की छात्रा फातिमा लतीफ की खुदकुशी का मुद्दा सामने आया था.

क्या आप जानते हैं कि बीते पांच वर्षों में देश के विभिन्न आईआईटीज में कुल कितने विद्यार्थी भिन्न-भिन्न कारणों से अपनी जान दे चुके हैं? अगर नहीं, तो जरूर जानें। । क्योंकि ये आंकड़ा आपको चौंका सकता है. केन्द्र सरकार ने खुद इसकी जानकारी दी है.

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' (Union HRD Minister Ramesh Pokhriyal Nishank) ने लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में ये जानकारी दी है. सवाल सोशलिस्ट पार्टी के सांसद एनके प्रेमचंद्रन द्वारा पूछा गया था.
सवाल के जवाब में केंद्रीय मंत्री ने बताया कि पिछले पांच वर्षों में देश के 23 आईआईटीज के 50 विद्यार्थी खुदकुशी कर चुके हैं. इनमें से सबसे ज्यादा आईआईटी गुवाहाटी के रहे. खुदकुशी करने वाले 50 में से 14 विद्यार्थी आईआईटी गुवाहाटी के थे.

मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, पिछले पांच वर्षों में आईआईटीज में सबसे ज्यादा खुदकुशी के मुद्दे में आईआईटी मद्रास व आईआईटी बॉम्बे दूसरे जगह पर रहा. दोनों में 7-7 विद्यार्थियों ने खुदकुशी की. वहीं, आईआईटी दिल्ली के चार, आईआईटी खड़गपुर के पांच व आईआईटी कानपुर और आईआईटी रूड़की के एक-एक विद्यार्थी ने किसी न किसी कारण से अपनी जान दे दी.


वहीं, अगर भारतीय प्रबंधन संस्थानों (IIM - Indian Institute of Management) की बात करें, तो देश के 20 आईआईएम से पांच वर्षों में 10 विद्यार्थियों ने खुदकुशी कर ली.