हैदराबाद गैंगरेप के चारों आरोपियों के एनकाउंटर के बाद निर्भया बलात्कार केस के दोषियों को फांसी देने की मांग लगातार तेज

हैदराबाद गैंगरेप के चारों आरोपियों के एनकाउंटर के बाद निर्भया बलात्कार केस के दोषियों को फांसी देने की मांग लगातार तेज

हैदराबाद गैंगरेप के चारों आरोपियों के एनकाउंटर के बाद निर्भया बलात्कार केस के दोषियों को फांसी देने की मांग लगातार तेज हो गई है. वहीं, बलात्कार केस में दोषी करार दिए गए अभियुक्त अक्षय कुमार ने सजा माफ करने के लिए उच्चतम न्यायालय में पुनर्विचार याचिका दाखिल की है. इस याचिका में उसने कई तरह की दलीलें दी हैं.

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आरोपी ने पुनर्विचार याचिका में दलिले रखते हुए बोला कि दिल्ली में हवा-पानी जहरीली हो चुकी हैं. यहां के लोग प्रदूषण से मर रहे हैं. ऐसे में फिर मुझे फांसी की सजा क्यों दी जा रही हैं.

दोषी अक्षय ने याचिका में लिखा कि दिल्ली में वायु प्रदुषण खतरनाक स्तर पर है. पूरी दिल्ली गैस चैंबर में तब्दील हो चुकी है. ऐसी स्थिति में अलग से मौत दंड देने की क्या आवश्यकता है.

आरोपी का बोलना है कि दूषित हवा व पानी की वजह से लोगों की आयु बहुत ज्यादा कम होती जा रही है. बता दें कि अपनी पुनर्विचार याचिका में दोषी ने वेद पुराण व उपनिषद का भी जिक्र किया है. दोषी अक्षय ने बोला कि वेद-पुराण व उपनिषदों में लोगों के हाजारों वर्ष जीवीत रहने का उल्लेख मिलता है.

धार्मिक ग्रंथों में भी यह लिखा मिला है कि सतयुक में लोग हजारों वर्ष तक जीते थे. त्रेता युग में भी एक आदमी हजार वर्ष जीता था. लेकिन कलयुग में आदमी 50 से 60 वर्ष तक ही जीवीत रह रहा है. ऐसे में फांसी की सजा देने की आवश्यकता नहीं.